Tuesday, June 16, 2009

Albert Einstein


Albert Einstein
I always think that my inner and outer life are based on the works and thoughts other people, living and dead, and that I must extend themselves to make the world so much same as I have received and continue to receive now - Albert Einstein

Albert Einstein was excellent physicist. He opened a lot of physical laws, and was ahead of many scientists of his time. But people call him a genius, not only for that. Professor Einstein was a philosopher who clearly understood the laws of success, and explained their as well as its equation. Here are ten quotes from the huge list of excellent speech. Ten golden lessons that you can use in their daily lives.

1. The man who is never wrong, never tried to do something new. Most people do not try to make something new out of fear of mistakes. But this is not be afraid. Often people, who lost, knows how to win more than one to whom success comes at once.

2. Education - this is what remains after you forget everything taught in school. After 30 years, you forget exactly what you had to learn in school. Just remember what you learned to yourself.

3. In my imagination I am free to paint as an artist. Imagination more important than knowledge. Knowledge is limited. Imagination embraces the entire world. When you realize how far humanity has advanced to the cave times, the force imagination is at full scale. What we have now achieved through imagination of our forefathers. The fact that we will in the future will be built using our imagination.

4. The secret to creativity is the ability to hide the sources of his inspiration. The uniqueness of your work often depends on how well you know how to hide their sources. You can inspire other great people, but if you're in a situation when you look at the entire world, your ideas should look unique.

5. The value of rights must be determined so that it provides, rather than what he is capable of
achieved. Try not to become a successful and valuable person. If you look at the world famous people, we can see that each of them something gave to this world. We need to make to be able to borrow. When your goal becomes increase in values in the world, you climb to the next level of life.

6. There are two ways to live: you can live as if there are no miracles, and you can live as if everything in this world is a miracle. If you live in, if nothing in this world is not a miracle, you can do all that want and you will not have obstacles. If you live as though everything is a miracle, then you can enjoy even the most minor forms of beauty in this world. If live simultaneously in two ways, your life will be happy and productive.

7. When I was a student himself and his way of thinking, I come to the conclusion that the gift of imagination and fantasy meant more to me than any capacity for abstract thinking. The dream of all, what you could achieve in life - this is an important element of a positive life. Let your imagination roam free and create a world in which you would like to live.

8. To become a perfect member of the flock of sheep, it is necessary first of all be sheep. If you want to become a successful entrepreneur, you need to start doing business right now. Wanting to start, but fear the consequences, you can not lead. It true in other areas of life: to win, first of all need to play.

9. We need to learn the rules of the game. And then, you need to play better than anyone. Learn the rules and play better than anyone. Just like all brilliant.

10. It is very important not to stop asking questions. Curiosity is not a coincidence given to humans. Smart people are always asking questions. Ask yourself and other people to find a solution. This will allow you to learn new things and to analyze their own growth.
Albert Einstein

TIBETAN BOOK OF THE GREAT LIBERATION

TIBETAN BOOK OF THE GREAT LIBERATION
THE TIBETAN BOOK OF THE GREAT LIBERATION
Or
The method of realizing nirvana through knowing the mindWritten by Padma-Sambhava 8th century ADBook description: The Tibetan Book of the Great Liberation, which was unknown to the Western world until its first publication in 1954, speaks to the quintessence of the Supreme Path, or Mahayana, and fully reveals the yogic method of attaining Enlightenment. Such attainment can happen, as shown here, by means of knowing the One Mind, the cosmic All-Consciousness, without recourse to the postures, breathings, and other techniques associated with the lower yogas. The original text for this volume belongs to the Bardo Thodol series of treatises concerning various ways of achieving transcendence, a series that figures into the Tantric school of the Mahayana. Authorship of this particular volume is attributed to the legendary Padma-Sambhava, who journeyed from India to Tibet in the 8th century, as the story goes, at the invitation of a Tibetan king. Padma-Sambhava's text per se is preceded by an account of the great guru's own life and secret doctrines. It is followed by the testamentary teachings of the Guru Phadampa Sangay, which are meant to augment the thought of the other gurus discussed herein. Still more useful supplementary material will be found in the book's introductory remarks, by its editor Evans-Wentz and by the eminent psychoanalyst C. G. Jung. The former presents a 100-page General Introduction that explains several key names and notions (such as Nirvana, for starters) with the lucidity, ease, and sagacity that are this scholar's hallmark; the latter offers a Psychological Commentary that weighs the differences between Eastern and Western modes of thought before equating the "collective unconscious" with the Enlightened Mind of the Buddhist. As with the other three volumes in the late Evans-Wentz's critically acclaimed Tibetan series, all four of which are being published by Oxford in new editions, this book also features a new Foreword by Donald S. Lopez.

Unique Mercury Shivling at the Earth Peace Temple at Sinhagad, Pune

The new Earth Peace Temple at the Siddhanath Forest Ashram at Sinhagad near Pune, Maharashtra is in the news due to a unique alchemical Mercury Shivalinga or Shiva Lingam installed in the temple. The linga is made of solidified mercury (paras mani) and is possibly the 'Shivling can be termed the elusive philosopher’s stone and has a distinctive spherical shape,' Yogiraj Siddhanath said. He said the science of mercury solidification, a technique that Europe and Arabia so dearly wanted but could not comprehend, has been known to India for 7,000 years, since the time of the Indo-Saraswati civilisation. Mercury, when solidified, sheds its toxic qualities and begins to exude a ‘nectarine’ effect, he elaborated, adding that it assists in slowing down the ageing process. “The ingestion of such pure mercury enables a true yogi to obtain a sanjeevan deh – an immaculate body – free from the ravages of time. It also helps in stabilizing the mind and attaining a state of peaceful calm,’ he said. The purification of mercury from its fluid to a solid state has 16 phases, he added. The Earth Peace temple is located in a forested area at Donje-Golewad in Sinhagad and is around 35 km from Pune city. It is a non-denominational temple and people of all races and religions are welcome. The temple was opened during the Shivratri in 2008.(Image source: the website of Hamsa Yoga)

TAZ or TEZO MAHAL

Secrets beneath the Garbha Griha
Its might appear very strange and intriguing that Shiva Lingas get unearthed at construction sites or any place when people dig the earth up. There have been remarkable moments in Indian History where the Paramacharya Sri Chandrashekar Swamigal Himself has pointed to location where there were sure possibilities of an ancient Shiva Linga within the earth. To name a few would be the Shiva Linga unearthed at Madhya Kailash, Taramani Chennai and at the Shankara Matt at Thiruvanaikkaval Srirangam. The Shiva Linga at Shankara Matt is particularly beautiful. Its claimed to be a Panchamukha Linga, though only four faces have been visibly sculpted into the shaft of the Linga. The fifth, typically on the top has not been carved in this case. The characterestic features of the faces takes us way back to the late Pallava, early Chola era. The pointed features and benign appearance of each face, remarkably similar such that they seem to belong to the same person rekindles the imagination With the world of the ancients. The question now is, how did these Shiva Lingas get past the ravages of time with endurance?Temples had a lot of thinking going into them before the very first stone was placed for its making, endless calculations not just based on how to build the temple, but to sustain it and keep it standing for the years to come. Decisions were taken to safe guard the main sanctum and more importantly the idol and its various elements from any danger of destruction. The Garbhagriha is not constructed on the ground. It is built over another chamber which has enough sand packed into it. This chamber has four pillars that hold up the floor of the Garbhagriha over them. The floor hosts the main idol as well as its elements that constitute the idols "power". Once the Idol has been brought to "life" the temple is proclaimed a living temple and the main idol is put over to cover the secret within. Subsequently the idol is "appeared" to be worshipped while the actual worship is done for the idol as well as the elements below. The idol is a visual representation of a reality contained in the elements, today unknown to all of us, well almost unknown. The Kumbhabhishekam is done to protect the temple and the idol from any natural disaster as well as those created by humans. Should there be trouble on a vast scale, and should the life of the "Worshipped" be at stake, the temple is designed to cave in. In cases of natural calamities, the main temple falls apart, pillars scattered after mandapas have crashed down. At the Garbhagriha its a different story. The first to fall are the pillars right at the bottom, below the Garbha griha. They are designed to fall outwards such that they give room to the floor to fall downwards and out giving way to the Shiva Linga and its various elements to fallen through into the sand packing without being harmed or damaged. Once the Shiva Linga has fallen through it gets covered by the surrounding sand and then later by the rest of the rubble that crashes down rendering it buried safe till its unearthed at a later date. A lot of thought and consideration went into the making and the prevention of any destruction to the Shiva Linga. This unique form of the Lord, subtly designed carries more to itself that what meets the eye. Thought went into safe guarding it, protecting it and leaving it within the lap of the earth to be dug up later for the world to see an ancient secret alive, evergreen.

Monday, June 15, 2009

Mystery of NASA

Hell, Purgatory, Paradise Several years ago, under the signature stamp of «secret» in the National Office for Outer Space azronavtike (NASA) is stored sensational information. 9 August 1973 from aboard the Space Shuttle «Skylab-2» astronauts transferred the message, stunned members of the Laboratory of Space Studies. It stated: «Hell is in the middle of the Sun. We see how burning the dead. We see al ». Communication was interrupted for a few seconds and then envoys peredovali the Earth from space as usual for the flight data as if it was not before this sensational message. Hell 16 NASA specialists for many years denied all rumors of the event. But in 1985 the U.S. journal «World Science» raised the veil of secrecy. Great message to the crew «Skylab-2» was, it turns out, published and plunged the people into the horror. In August 1978, astronauts aboard the Space Shuttle, studied solar flares through spektrogeliografa, who noted all the changes on film. During this observation on the celestial luminary of an explosion of great force. From the depths of fireball at 800 thousand miles (!) Up rvanulsya pole helium. And suddenly in front of osharashennyh monitors, liquid gas flow stopped. The whole 70 seconds, the device recorded nightmarish vision: in this column of fire appeared, hundreds of thousands of people, exhausted eternal torture in fire. Initially, the astronauts thought that this hallucination, but those images were very clear. Astronauts saw something that, in the opinion of atheists does not exist - Hell. According to the magazine, is now data from the Americans, carefully studied. Purgatory Ten years after the sensational message some U.S. editions told readers on yet another fantastic event. Using specially developed equipment and a telescope to observe infrared radiation, researchers at NASA film films strange phenomenon: in the open space soared ghosts of dead people and animals. This event caused a sharp disagreement between the representatives of official science, and парапсихологами church. But in one, all were unanimous: the real picture! One member of the official commission of experts said: «We have long been aware of the existence of ghosts. In May 1993, we were able to see this substance in space through a telescope «Habla» ... However, the leadership of NASA and the government decided to classify this information until you can explain to people that represent these glowing education, the form of man. The first pictures of the scientists were unknown when the investigation of the influence of the Sun on the planet Neptune. The photos clearly seen a lot of luminous human bodies. The views of the scientific community on this issue were mixed. Pedro García, a Spanish theologian, says: «This part of the universe is a purgatory - a place between heaven and hell. Here souls of the dead awaiting trial for their earthly affairs ». Another famous American physicist, who wishes to preserve the incognito, he said: «These forms - the result of electrical impulses - the true essence of life that has no beginning or end. When people die, the electricity leaves the body in space. And it all ». The author of 11 books on extraterrestrial civilizations, Dr. Alan De enclosures, came to the conclusion that the forms visible in the photos, nothing more than an extraterrestrial substance ... Despite many different views, it is obvious one - to the existing secrets of mankind came new. In this case, the Representative, NASA said: «In order to solve it is a hard work, despite the enormous costs». Perhaps in the near future inhabitants of our planet and become aware of the most incredible results, but deceive ourselves in this regard does not arise. The military is known to be able to keep secrets. In search of paradise by NASA left no comments amazing fact: American astronaut Charles Ginson stayed in space ... 28 years! Individuals from the NASA claim that this case is not an explanation, as the official representative of the organization stated: «We have lost contact with the commander of the Space Shuttle C. Ginsonom over 3 hours and 58 minutes after launch. Since the mission was secret, we could not inform the public. In our papers, Charles Ginson appears as a person missing without trace. That was until 26 March 1991. That spring day, after nearly 28 years after the astronaut in space has disappeared, a U.S. naval part took Ginsona radio Ch. Shortly thereafter, in the ocean has been discovered capsule «Gemini» with astronaut on board. The question arises as astronaut could survive in space 28 years from the abyss of fuel, food and water only half a year? Without any «Extraterrestrial» force is unthinkable! In this mysterious case the official version of NASA does not exist. Spacecraft with astronaut on board ran the war, so all is covered with mystery. Documents relating to this event, have gone along with the archive. There is even evidence that Ginson was in the state of NASA, although all senior staff are well remembered him. Charles Ginson was quarantined at Edwards Air Force in California. Astronaut and «Gemini» carefully studied. A dedicated group of psychiatrists trying to get from Ginsona of his fantastic adventures. - Physically, he feels good, but totally misleading - told reporters fellow NASA. - Do not give a report in his absence on Earth for a long time. Mental astronaut leaves much to be desired, it is impossible to link the words together. When asked where he was, whether the contact with the inhabitants of outer space or any «supernatural» forces Ginson invariably answered: «Never again ... You have to understand ... It's your enemies ». Further questions were hysterical and crying. The famous magician Polish Krzysztof Bullyshko through the media said then that soon astronaut conspiracy and that he will tell, will shake society. It is, however, have much more time, as new details about 28-years of space travel did not appear. Maybe this is directly related to the detection space of hell and purgatory. It is likely that C. Ginson went to heaven because he is back living on the Earth. But where, then, is this paradise? And so there good if astronaut exclaimed: «Never again!».

Mercury converted to gold in 1942 in India- proof

Times of India-01/06/08
Inscription on Birla Mandir-DelhiOn 27/5/1942 in Birla House in presence of Shri A B Thakkar (PM, All India Hindu sevak sangh), Sri Duttji, secretary-Birla Mills, Delhi, Sri Khemka-Chief Engineer Sri Wilson etc, Pandit Krishnapal Sharma coverted one tola mercury into 1 tola gold.He put mercury inside a shell of reetha with some white and yellow powder (Jadi-booti) and it was closed with clay and this was put in hollow of earthen lamp and burnt for 45 minutes.On cooling and opening it, Gold was found! Similar inscription on Birla mandir-varanasi:In 1943, pandit krishnapal Rasavaidya did it in rishikesh in presence of mahatma Gandhi’s P.A. Mahadev Desai, G.K Birla and othersMercury provided by desai was converted into 18KG of Gold!. This was donated to a trust wh fetched Rs 72000!This experiment was repeated in presence of Pratap Singh of BHUWas this an example of alchemy or cold fusion and if yes, our ancestors knew more science than all world put together!BARC former associate Mahadeva Srinivasan believes in this possibility and stated there was good work done at BARC on this till 1994 and then sr scientists killed this research!Cold fusion research is not getting funds in India but China, Russia and Japan are doing it. This process can mean one can create electricity in their homes and clean fuel will be produced without hazardous wastes.Let us write to BJP and Congress leaders to initiate large scale funding on cold fusion which can revolutionalise energy and gold and make India and Indians richer and energy surplus!If u all are game, I am willing to provide address of concerned people in these two parties who will listen. C’mon India lets make India beter!
The great ancient Indian epic, the Mahabharata, contains numerous legends about the powerful force of a mysterious weapon.

The archaeological expedition, which carried out excavations near the Indian settlement of Mohenjo-Daro in the beginning of the 1900s, uncovered the ruins of a big ancient town. The town belonged to one of the most developed civilizations in the world. The ancient civilization existed for two or three thousand years. However, scientists were a lot more interested in the death of the town, rather than in its prosperity.
Researchers tried to explain the reason of the town's destruction with various theories. However, scientists did not find any indications of a monstrous flood, skeletons were not numerous, there were no fragments of weapons, or anything else that could testify either to a natural disaster or a war. Archaeologists were perplexed: according to their analysis the catastrophe in the town had occurred very unexpectedly and it did hot last long.
Scientists Davneport and Vincenti put forward an amazing theory. They stated the ancient town had been ruined with a nuclear blast. They found big stratums of clay and green glass. Apparently, archaeologists supposed, high temperature melted clay and sand and they hardened immediately afterwards. Similar stratums of green glass can also found in Nevada deserts after every nuclear explosion.
A hundred years have passed since the excavations in Mohenjo-Daro. The modern analysis showed, the fragments of the ancient town had been melted with extremely high temperature – not less than 1,500 degrees centigrade. Researchers also found the strictly outlined epicenter, where all houses were leveled. Destructions lessened towards the outskirts. Dozens of skeletons were found in the area of Mohenjo-Daro – their radioactivity exceeded the norm almost 50 times.
The great ancient Indian epic, the Mahabharata, contains numerous legends about the powerful force of a mysterious weapon. One of the chapters tells of a shell, which sparkled like fire, but had no smoke. “When the shell hit the ground, the darkness covered the sky, twisters and storms leveled the towns. A horrible blast burnt thousands of animals and people to ashes. Peasants, townspeople and warriors dived in the river to wash away the poisonous dust.”
Astounding mysteries of India's ancient times can be found in the town of Shivapur. There are two enigmatic stones resting opposite the local shrine. One of them weighs 55 kilograms, the other one is 41 kilograms. If eleven men touch the bigger stone, and nine men touch the smaller stone, if they all chant the magic phrase, which is carved on one of the walls of the shrine, the two stones will raise two meters up in the air and will hang there for two seconds, as if there is no gravitation at all. A lot of European and Asian scientists and researchers have studied the phenomenon of levitating stones of Shivapur.
Modern people divide the day into 24 hours, the hour – into 60 minutes, the minute - into 60 seconds. Ancient Hindus divided the day in 60 periods, lasting 24 minutes each, and so on and so forth. The shortest time period of ancient Hindus made up one-three-hundred-millionth of a second.

...Nuclear war in Ancient India !!!








Hello friends, while researching for one of my blog posts i stumbled upon some articles regarding Nuclear Warfare in Ancient India.. I have posted it from various sources with some editing..
Julius Robert Oppenheimer is remembered as "The Father of the Atomic Bomb". During a college lecture, Oppenheimer was asked: 'Was the atomic test at Alamagordo the first nuclear blast?' The student meant: Was there a U.S. program before Alamagordo? Oppenheimer answered: 'Yes, in modern times.' The creator of the A-Bomb meant: Our atomic program was the first, not counting the ancient nuclear wars of the distant past. Oppenheimer was a student of the old books of India; such as the Mahabharata, Bhagavad Gita. They are not fictional stories. They are history. They speak of flying vimanas. Vimanas were real vehicles and the origin of the 'Aeroplanes .' Great wars were described in these early texts. Weapons could literally level the land like a moving force field. In ancient India, we find words for certain measurements of length; one was the distance of light-years and one was the length of an atom. Only a society that possessed nuclear energy would have the need for such words. When Oppenheimer said 'I am become the destroyer of worlds,' he was quoting from these ancient books. Believe it or not, the deserts on a number of continents today are the result of (prehistoric) nuclear warfare. Historian Kisari Mohan Ganguli says that Indian sacred writings are full of such descriptions, which sound like an atomic blast as experienced in Hiroshima and Nagasaki. He says references mention fighting sky chariots and final weapons. An ancient battle is described in the Drona Parva, a section of the Mahabharata. "The passage tells of combat where explosions of final weapons decimate entire armies, causing crowds of warriors with steeds and elephants and weapons to be carried away as if they were dry leaves of trees," says Ganguli.





Consider these verses from the ancient Mahabharata: ...a single projectile Charged with all the power of the Universe. An incandescent column of smoke and flame As bright as the thousand suns Rose in all its splendour... a perpendicular explosion with its billowing smoke clouds... ...the cloud of smoke rising after its first explosion formed into expanding round circles like the opening of giant parasols... ..it was an unknown weapon, An iron thunderbolt, A gigantic messenger of death, Which reduced to ashes The entire race of the Vrishnis and the Andhakas. ...The corpses were so burned As to be unrecognisable. The hair and nails fell out; Pottery broke without apparent cause, And the birds turned white. After a few hours All foodstuffs were infected... ...to escape from this fire The soldiers threw themselves in streams To wash themselves and their equipment.

Until the bombing of Hiroshima and Nagasaki, modern mankind could not imagine any weapon as horrible and devastating as those described in the ancient Indian texts. Yet they very accurately described the effects of an atomic explosion. Radioactive poisoning will make hair and nails fall out. Immersing oneself in water gives some respite, though it is not a cure. When excavations of Harappa and Mohenjo-Daro reached the street level, they discovered skeletons scattered about the cities, many holding hands and sprawling in the streets as if some instant, horrible doom had taken place. People were just lying, unburied, in the streets of the city. Excavations down to the street level revealed 44 scattered skeletons, as if doom had come so suddenly they could not get to their houses. All the skeletons were flattened to the ground. A father, mother and child were found flattened in the street, face down and still holding hands. And these skeletons are thousands of years old, even by traditional archaeological standards. What could cause such a thing? Why did the bodies not decay or get eaten by wild animals? Furthermore, there is no apparent cause of a physically violent death.


There is evidence that the Rama empire (now India) was devastated by nuclear war. The Indus valley is now the Thar desert, and the site of the radioactive ash found west of Jodhpur is around there. A heavy layer of radioactive ash in Rajasthan, India, covers a three-square mile area, ten miles west of Jodhpur. Scientists are investigating the site, where a housing development was being built. For some time it has been established that there is a very high rate of birth defects and cancer in the area under construction. The levels of radiation there have registered so high on investigators' gauges that the Indian government has now cordoned off the region. Scientists have unearthed an ancient city where evidence shows an atomic blast dating back thousands of years, from 8,000 to 12,000 years, destroyed most of the buildings and probably a half-million people. One researcher estimates that the nuclear bomb used was about the size of the ones dropped on Japan in 1945. Another curious sign of an ancient nuclear war in India is a giant crater near Bombay. The nearly circular 2,154-metre-diameter Lonar crater, located 400 kilometres northeast of Mumbai and aged at less than 50,000 years old, could be related to nuclear warfare of antiquity. No trace of any meteoric material, etc., has been found at the site or in the vicinity, and this is the world's only known "impact" crater in basalt. Indications of great shock (from a pressure exceeding 600,000 atmospheres) and intense, abrupt heat (indicated by basalt glass spherules) can be ascertained from the site.



I feel ashamed of those Hindus who say Ramayana,Mahabharata is just a work of poetry and fiction.. Untill we make an attempt to read them , no mysteries which are in deep in these books can be revived..

Friday, June 12, 2009

मुक्तिदायिनी है बाबा विश्वनाथ की काशी


मुक्तिदायिनी है बाबा विश्वनाथ की काशी

काशी संसार की सबसे पुरानी नगरी है। विश्व के सर्वाधिक प्राचीन ग्रंथ ऋग्वेद में काशी का उल्लेख मिलता है-काशिरित्ते.. आप इवकाशिनासंगृभीता:।पुराणों के अनुसार यह आद्य वैष्णव स्थान है। पहले यह भगवान विष्णु (माधव) की पुरी थी। जहां श्रीहरिके आनंदाश्रु गिरे थे, वहां बिंदुसरोवरबन गया और प्रभु यहां बिंधुमाधवके नाम से प्रतिष्ठित हुए। ऐसी एक कथा है कि जब भगवान शंकर ने कु्रद्ध होकर ब्रह्माजीका पांचवां सिर काट दिया, तो वह उनके करतल से चिपक गया। बारह वर्षो तक अनेक तीर्थो में भ्रमण करने पर भी वह सिर उनसे अलग नहीं हुआ। किंतु जैसे ही उन्होंने काशी की सीमा में प्रवेश किया, ब्रह्महत्या ने उनका पीछा छोड दिया और वह कपाल भी अलग हो गया। जहां यह घटना घटी, वह स्थान कपालमोचन-तीर्थकहलाया। महादेव को काशी इतनी अच्छी लगी कि उन्होंने इस पावन पुरी को विष्णुजीसे अपने नित्य आवास के लिए मांग लिया। तब से काशी उनका निवास-स्थान बन गई।
एक अन्य कथा के अनुसार महाराज सुदेव के पुत्र राजा दिवोदासने गंगातटपर वाराणसी नगर बसाया था। एक बार भगवान शंकर ने देखा कि पार्वती जी को अपने मायके (हिमालय-क्षेत्र) में रहने में संकोच होता है, तो उन्होंने किसी दूसरे सिद्धक्षेत्रमें रहने का विचार बनाया। उन्हें काशी अतिप्रियलगी। वे यहां आ गए। भगवान शिव के सान्निध्य में रहने की इच्छा से देवता भी काशी में आकर रहने लगे। राजा दिवोदासअपनी राजधानी काशी का आधिपत्य खो जाने से बडे दु:खी हुए। उन्होंने कठोर तपस्या करके ब्रह्माजीसे वरदान मांगा- देवता देवलोक में रहें, भूलोक (पृथ्वी) मनुष्यों के लिए रहे। सृष्टिकर्ता ने एवमस्तु कह दिया। इसके फलस्वरूप भगवान शंकर और देवगणोंको काशी छोडने के लिए विवश होना पडा। शिवजी मन्दराचलपर्वत पर चले तो गए परंतु काशी से उनका मोह भंग नहीं हुआ। महादेव को उनकी प्रिय काशी में पुन:बसाने के उद्देश्य से चौसठ योगनियों,सूर्यदेव, ब्रह्माजीऔर नारायण ने बडा प्रयास किया। गणेशजीके सहयोग से अन्ततोगत्वा यह अभियान सफल हुआ। ज्ञानोपदेश पाकर राजा दिवोदासविरक्त हो गए। उन्होंने स्वयं एक शिवलिङ्गकी स्थापना करके उसकी अर्चना की और बाद में वे दिव्य विमान पर बैठकर शिवलोक चले गए। महादेव काशी वापस आ गए।
काशी का इतना माहात्म्य है कि सबसे बडे पुराण स्कन्दमहापुराण में काशीखण्ड के नाम से एक विस्तृत पृथक विभाग ही है। इस पुरी के बारह प्रसिद्ध नाम- काशी, वाराणसी, अविमुक्त क्षेत्र, आनन्दकानन,महाश्मशान,रुद्रावास,काशिका,तप:स्थली,मुक्तिभूमि,शिवपुरी, त्रिपुरारिराजनगरीऔर विश्वनाथनगरीहैं।
स्कन्दपुराणकाशी की महिमा का गुण-गान करते हुए कहता है-
भूमिष्ठापिन यात्र भूस्त्रिदिवतोऽप्युच्चैरध:स्थापिया
या बद्धाभुविमुक्तिदास्युरमृतंयस्यांमृताजन्तव:।
या नित्यंत्रिजगत्पवित्रतटिनीतीरेसुरै:सेव्यते
सा काशी त्रिपुरारिराजनगरीपायादपायाज्जगत्॥
जो भूतल पर होने पर भी पृथ्वी से संबद्ध नहीं है, जो जगत की सीमाओं से बंधी होने पर भी सभी का बन्धन काटनेवाली(मोक्षदायिनी) है, जो महात्रिलोकपावनीगङ्गाके तट पर सुशोभित तथा देवताओं से सुसेवितहै, त्रिपुरारि भगवान विश्वनाथ की राजधानी वह काशी संपूर्ण जगत् की रक्षा करे।
सनातन धर्म के ग्रंथों के अध्ययन से काशी का लोकोत्तर स्वरूप विदित होता है। कहा जाता है कि यह पुरी भगवान शंकर के त्रिशूल पर बसी है। अत:प्रलय होने पर भी इसका नाश नहीं होता है। वरुणा और असि नामक नदियों के बीच पांच कोस में बसी होने के कारण इसे वाराणसी भी कहते हैं। काशी नाम का अर्थ भी यही है-जहां ब्रह्म प्रकाशित हो। भगवान शिव काशी को कभी नहीं छोडते। जहां देह त्यागने मात्र से प्राणी मुक्त हो जाय, वह अविमुक्त क्षेत्र यही है। सनातन धर्मावलंबियों का दृढ विश्वास है कि काशी में देहावसान के समय भगवान शंकर मरणोन्मुख प्राणी को तारकमन्त्रसुनाते हैं। इससे जीव को तत्वज्ञान हो जाता है और उसके सामने अपना ब्रह्मस्वरूपप्रकाशित हो जाता है। शास्त्रों का उद्घोष है-
यत्र कुत्रापिवाकाश्यांमरणेसमहेश्वर:।
जन्तोर्दक्षिणकर्णेतुमत्तारंसमुपादिशेत्॥

काशी में कहीं पर भी मृत्यु के समय भगवान विश्वेश्वर (विश्वनाथजी) प्राणियों के दाहिने कान में तारक मन्त्र का उपदेश देते हैं। तारकमन्त्रसुनकर जीव भव-बन्धन से मुक्त हो जाता है।
यह मान्यता है कि केवल काशी ही सीधे मुक्ति देती है, जबकि अन्य तीर्थस्थान काशी की प्राप्ति कराके मोक्ष प्रदान करते हैं। इस संदर्भ में काशीखण्ड में लिखा भी है-
अन्यानिमुक्तिक्षेत्राणिकाशीप्राप्तिकराणिच।
काशींप्राप्य विमुच्येतनान्यथातीर्थकोटिभि:।।
ऐसा इसलिए है कि पांच कोस की संपूर्ण काशी ही विश्व के अधिपति भगवान विश्वनाथ का आधिभौतिक स्वरूप है। काशीखण्ड पूरी काशी को ही ज्योतिíलंगका स्वरूप मानता है-
अविमुक्तंमहत्क्षेत्रं<न् द्धह्मद्गद्घ="द्वड्डद्बद्यह्लश्र:पञ्चक्रोशपरीमितम्।">पञ्चक्रोशपरीमितम्।
ज्योतिíलङ्गम्तदेकंहि ज्ञेयंविश्वेश्वराभिधम्॥

पांच कोस परिमाण के अविमुक्त (काशी) नामक क्षेत्र को विश्वेश्वर (विश्वनाथ) संज्ञक ज्योतिíलंग-स्वरूपमानना चाहिए।
अनेक प्रकाण्ड विद्वानों ने काशी मरणान्मुक्ति:के सिद्धांत का समर्थन करते हुए बहुत कुछ लिखा और कहा है। रामकृष्ण मिशन के स्वामी शारदानंदजीद्वारा लिखित श्रीरामकृष्ण-लीलाप्रसंग नामक पुस्तक में श्रीरामकृष्णपरमहंसदेवका इस विषय में प्रत्यक्ष अनुभव वíणत है। वह दृष्टांत बाबा विश्वनाथ द्वारा काशी में मृतक को तारकमन्त्रप्रदान करने की सत्यता उजागर करता है। लेकिन यहां यह भी बात ध्यान रहे कि काशी में पाप करने वाले को मरणोपरांत मुक्ति मिलने से पहले अतिभयंकरभैरवी यातना भी भोगनी पडती है। सहस्रोंवर्षो तक रुद्रपिशाचबनकर कुकर्मो का प्रायश्चित करने के उपरांत ही उसे मुक्ति मिलती है। किंतु काशी में प्राण त्यागने वाले का पुनर्जन्म नहीं होता।
फाल्गुन शुक्ल-एकादशी को काशी में रंगभरी एकादशी कहा जाता है। इस दिन बाबा विश्वनाथ का विशेष श्रृंगार होता है और काशी में होली का पर्वकाल प्रारंभ हो जाता है।
मुक्तिदायिनीकाशी की यात्रा, यहां निवास और मरण तथा दाह-संस्कार का सौभाग्य पूर्वजन्मों के पुण्यों के प्रताप तथा बाबा विश्वनाथ की कृपा से ही प्राप्त होता है। तभी तो काशी की स्तुति में कहा गया है-यत्र देहपतनेऽपिदेहिनांमुक्तिरेवभवतीतिनिश्चितम्।
पूर्वपुण्यनिचयेनलभ्यतेविश्वनाथनगरीगरीयसी॥

विश्वनाथजी की अतिश्रेष्ठनगरी काशी पूर्वजन्मों के पुण्यों के प्रताप से ही प्राप्त होती है। यहां शरीर छोडने पर प्राणियों को मुक्ति अवश्य मिलती है।

साक्षात् रुद्र हैं श्री भैरवनाथ


साक्षात् रुद्र हैं श्री भैरवनाथ
श्रीभैरवनाथसाक्षात् रुद्र हैं। शास्त्रों के सूक्ष्म अध्ययन से यह स्पष्ट होता है कि वेदों में जिस परमपुरुष का नाम रुद्र है, तंत्रशास्त्रमें उसी का भैरव के नाम से वर्णन हुआ है। तन्त्रालोक की विवेकटीका में भैरव शब्द की यह व्युत्पत्ति दी गई है- बिभíत धारयतिपुष्णातिरचयतीतिभैरव: अर्थात् जो देव सृष्टि की रचना, पालन और संहार में समर्थ है, वह भैरव है। शिवपुराणमें भैरव को भगवान शंकर का पूर्णरूप बतलाया गया है। तत्वज्ञानी भगवान शंकर और भैरवनाथमें कोई अंतर नहीं मानते हैं। वे इन दोनों में अभेद दृष्टि रखते हैं।
वामकेश्वर तन्त्र के एक भाग की टीका- योगिनीहृदयदीपिका में अमृतानन्दनाथका कथन है- विश्वस्य भरणाद्रमणाद्वमनात्सृष्टि-स्थिति-संहारकारी परशिवोभैरव:। भैरव शब्द के तीन अक्षरों भ-र-वमें ब्रह्मा-विष्णु-महेश की उत्पत्ति-पालन-संहार की शक्तियां सन्निहित हैं। नित्यषोडशिकार्णव की सेतुबन्ध नामक टीका में भी भैरव को सर्वशक्तिमान बताया गया है-भैरव: सर्वशक्तिभरित:शैवोंमें कापालिकसम्प्रदाय के प्रधान देवता भैरव ही हैं। ये भैरव वस्तुत:रुद्र-स्वरूप सदाशिवही हैं। शिव-शक्ति एक दूसरे के पूरक हैं। एक के बिना दूसरे की उपासना कभी फलीभूत नहीं होती। यतिदण्डैश्वर्य-विधान में शक्ति के साधक के लिए शिव-स्वरूप भैरवजीकी आराधना अनिवार्य बताई गई है। रुद्रयामल में भी यही निर्देश है कि तन्त्रशास्त्रोक्तदस महाविद्याओंकी साधना में सिद्धि प्राप्त करने के लिए उनके भैरव की भी अर्चना करें। उदाहरण के लिए कालिका महाविद्याके साधक को भगवती काली के साथ कालभैरवकी भी उपासना करनी होगी। इसी तरह प्रत्येक महाविद्या-शक्तिके साथ उनके शिव (भैरव) की आराधना का विधान है। दुर्गासप्तशतीके प्रत्येक अध्याय अथवा चरित्र में भैरव-नामावली का सम्पुट लगाकर पाठ करने से आश्चर्यजनक परिणाम सामने आते हैं, इससे असम्भव भी सम्भव हो जाता है। श्रीयंत्रके नौ आवरणों की पूजा में दीक्षाप्राप्तसाधक देवियों के साथ भैरव की भी अर्चना करते हैं।
अष्टसिद्धि के प्रदाता भैरवनाथके मुख्यत:आठ स्वरूप ही सर्वाधिक प्रसिद्ध एवं पूजित हैं। इनमें भी कालभैरव तथा बटुकभैरव की उपासना सबसे ज्यादा प्रचलित है। काशी के कोतवाल कालभैरवकी कृपा के बिना बाबा विश्वनाथ का सामीप्य नहीं मिलता है। वाराणसी में निíवघ्न जप-तप, निवास, अनुष्ठान की सफलता के लिए कालभैरवका दर्शन-पूजन अवश्य करें। इनकी हाजिरी दिए बिना काशी की तीर्थयात्रा पूर्ण नहीं होती। इसी तरह उज्जयिनीके कालभैरवकी बडी महिमा है। महाकालेश्वर की नगरी अवंतिकापुरी(उज्जैन) में स्थित कालभैरवके प्रत्यक्ष मद्य-पान को देखकर सभी चकित हो उठते हैं।
धर्मग्रन्थों के अनुशीलन से यह तथ्य विदित होता है कि भगवान शंकर के कालभैरव-स्वरूपका आविर्भाव मार्गशीर्ष मास के कृष्णपक्ष की प्रदोषकाल-व्यापिनीअष्टमी में हुआ था, अत:यह तिथि कालभैरवाष्टमी के नाम से विख्यात हो गई। इस दिन भैरव-मंदिरों में विशेष पूजन और श्रृंगार बडे धूमधाम से होता है। भैरवनाथके भक्त कालभैरवाष्टमी के व्रत को अत्यन्त श्रद्धा के साथ रखते हैं। मार्गशीर्ष कृष्ण अष्टमी से प्रारम्भ करके प्रत्येक मास के कृष्णपक्ष की प्रदोष-व्यापिनी अष्टमी के दिन कालभैरवकी पूजा, दर्शन तथा व्रत करने से भीषण संकट दूर होते हैं और कार्य-सिद्धि का मार्ग प्रशस्त होता है। पंचांगों में इस अष्टमी को कालाष्टमी के नाम से प्रकाशित किया जाता है।
ज्योतिषशास्त्र की बहुचíचत पुस्तक लाल किताब के अनुसार शनि के प्रकोप का शमन भैरव की आराधना से होता है। इस दिन भैरवनाथके व्रत एवं दर्शन-पूजन से शनि की पीडा का निवारण होगा। कालभैरवकी अनुकम्पा की कामना रखने वाले उनके भक्त तथा शनि की साढेसाती, ढैय्या अथवा शनि की अशुभ दशा से पीडित व्यक्ति इस कालभैरवाष्टमीसे प्रारम्भ करके वर्षपर्यन्तप्रत्येक कालाष्टमीको व्रत रखकर भैरवनाथकी उपासना करें।
कालाष्टमीमें दिन भर उपवास रखकर सायं सूर्यास्त के उपरान्त प्रदोषकालमें भैरवनाथकी पूजा करके प्रसाद को भोजन के रूप में ग्रहण किया जाता है। मन्त्रविद्याकी एक प्राचीन हस्तलिखित पाण्डुलिपि से महाकाल भैरव का यह मंत्र मिला है- ॐहंषंनंगंकंसं खंमहाकालभैरवायनम:।
इस मंत्र का 21हजार बार जप करने से बडी से बडी विपत्ति दूर हो जाती है।। साधक भैरव जी के वाहन श्वान (कुत्ते) को नित्य कुछ खिलाने के बाद ही भोजन करे।
साम्बसदाशिवकी अष्टमूíतयोंमें रुद्र अग्नि तत्व के अधिष्ठाता हैं। जिस तरह अग्नि तत्त्‍‌व के सभी गुण रुद्र में समाहित हैं, उसी प्रकार भैरवनाथभी अग्नि के समान तेजस्वी हैं। भैरवजीकलियुग के जाग्रत देवता हैं। भक्ति-भाव से इनका स्मरण करने मात्र से समस्याएं दूर होती हैं।
इनका आश्रय ले लेने पर भक्त निर्भय हो जाता है। भैरवनाथअपने शरणागत की सदैव रक्षा करते हैं।

देवभूमि, पुण्यभूमि बद्रीनाथ, केदारनाथ


देवभूमी, पुण्यभूमि बद्रीनाथ, केदारनाथ

उत्तर भारत के दो तीर्थस्थलबद्रीनाथ एवं केदारनाथ संपूर्ण भारतवासियों के प्रमुख आस्था-केंद्र हैं। धामों की संख्या चार है, बद्रीनाथ, द्वारका,रामेश्वरम्एवं जगन्नाथपुरी।ये धाम भारतवर्ष के क्रमश:उत्तरी, पश्चिमी, दक्षिणी एवं पूर्वी छोरों पर स्थित है। बद्रीनाथ धाम और केदारनाथ के कपाट शरद् ऋतु में बंद हो जाते हैं और ग्रीष्म ऋतु के प्रारंभ में खुलते हैं। शेष तीन धामों की यात्रा पूरे वर्ष चलती रहती है। उत्तर के दो तीर्थस्थलबद्रीनाथ और केदारनाथ किन्हीं दृष्टियोंसे एक-दूसरे से भिन्न हैं। पहली भिन्नता तो यह है कि बद्रीनाथ धाम है और केदारनाथ तीर्थस्थलहै। दूसरी भिन्नता यह है कि बद्रीनाथ में विष्णु के विग्रह की पूजा होती है और केदारनाथ में शिव के विग्रह की पूजा। तीसरी भिन्नता यह है कि शीतकाल में बद्रीनाथ से भगवान विष्णु का विग्रह उठाकर ऊखीमठमें ले जाया जाता है। ऊखीमठमें भगवान की पूजा नहीं होती है। इसके विपरीत केदारनाथ में शिव का विग्रह यथावत् यथास्थान पर बना रहता है और कपाट बंद हो जाने पर विग्रह की पूजा नहीं होती है।
बद्रीनाथ क्षेत्र में बदरी(बैर) के जंगल थे, इसलिए इस क्षेत्र में स्थित विष्णु के विग्रह को बद्रीनाथ की संज्ञा प्राप्त हुई। किसी कालखंडमें बद्रीनाथ के विग्रह को कुछ अनास्थाशीलतत्वों ने नारदकुंडमें फेंक दिया। आदिशंकराचार्यभारत-भ्रमण के क्रम में जब यहां आए, तो उन्होंने नारदकुंडमें प्रवेश करके विष्णु के इस विग्रह का उद्धार किया और बद्रीनाथ के रूप में इसकी प्राण-प्रतिष्ठा की। बद्रीनाथ के दो और नाम हैं, बदरीनाथएवं बद्रीविशाल।
केदारनाथ में शिव के विग्रह की पूजा होती है। सामान्यत:शिव की पूजा शिवलिंगके रूप में होती है, पर केदारनाथ में शिव के विग्रह का स्वरूप भैंसेकी पीठ के ऊपरी भाग की भांति हैं। इस संबंध में एक पौराणिक कथा आती है। महाभारत के बाद परिवारजनों के हत्याजनितपाप से मुक्ति के लिए पांडव प्रायश्चित-क्रम में भगवान शिव के दर्शन करना चाहते थे। भगवान शिव पांडवों से रुष्ट थे। वे उन्हें पापमुक्तनहीं करना चाहते थे। पांडवों की खोजी दृष्टि बचने के लिए भगवान शंकर ने महिष का रूप धारण कर लिया और महिष दल में सम्मिलित हो गए। भगवान शंकर को खोजने का काम भीम कर रहे थे। किसी तरह भीम ने यह जान लिया कि अमुक महिष ही भगवान शंकर हैं। वह उनके पीछे दौडा। भीम से बचने के क्रम में भगवान शंकर पाताल लोक में प्रवेश करने लगें। कहा जाता है कि पाताल लोक में प्रवेश करते हुए भगवान शंकर के पृष्ठ भाग को पकड लिया और उन्हें दर्शन देने के लिए बाध्य कर दिया। अंतत:भगवान शंकर के दर्शन से सभी पांडव पापमुक्तहो गए। इस घटना के बाद लोक में महिष के पृष्ठभाग के रूप में भगवान शंकर की पूजा होने लगी। केदारनाथ में महिष का पृष्ठभाग ही शिव-विग्रह के रूप में स्थापित है। यह घटना जिस क्षेत्र में हुई उसे गुप्त काशी कहा जाता है।
बद्रीनाथ मंदिर के पास ब्रह्मकपालनामक एक स्थान है। यहां पितरोंके लिए पिंडदान किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि जिन पितरोंका श्राद्ध यहां हो जाता है, वह देवस्थितिमें आ जाते हैं। उन्हें गया अथवा अन्य स्थान पर पिंडदान की आवश्यकता नहीं होती।
बद्रीनाथ का वर्तमान मंदिर अधिक प्राचीन नहीं है। आज जो मंदिर विद्यमान है, उसके प्रधान शिल्पी श्रीनगर के लछमूमिस्त्री थे। इस मंदिर को रामनुजसंप्रदाय के स्वामी वरदराजकी प्रेरणा से गढवाल नरेश ने पंद्रहवींशताब्दी में बनवाया। मंदिर पर सोने का छत्र और कलश इंदौर की महारानी अहिल्याबाईने चढवाया। मंदिर में वरिष्ठ और कनिष्ठ दो रावल (पुजारी) होते हैं। दोनों का चयन केरल के नम्बूदरीपाद ब्राह्मण परिवार से होता है।
बद्रिकाश्रमक्षेत्र में बद्रीनाथ धाम के अतिरिक्त और बहुत से ऐसे तीर्थस्थलहैं, जहां कम यात्री पहुंच पाते हैं। व्यासगुफाएक ऐसा ही स्थान है। यह स्थान बद्रीनाथ धाम से लगभग तीन किलोमीटर की दूरी पर है। ढाई किलोमीटर तक यात्री लोग वाहन से जा सकते हैं। इसके बाद चढाई प्रारंभ हो जाती है और यात्रियों को पैदल चलना पडता है। व्यासगुफावह स्थान है, जहां महर्षि वेदव्यासने ब्रह्मसूत्र की रचना द्वापर के अंत और कलियुग के प्रारंभ (लगभग 5108वर्ष पूर्व) में की थी। मान्यता है कि आदिशंकराचार्यने इसी गुफामें ब्रह्मसूत्र पर शरीरिकभाष्यनामक ग्रंथ की रचना की थी। व्यासगुफाके पास ही गणेशगुफाहै। यह महर्षि व्यास के लेखक गणेश जी का वास स्थान था।
बद्रिकाश्रमक्षेत्र में अलकनंदानदी है। अलकनंदाका उद्गम-स्थान अलकापुरीहिमनद है। इसे कुबेर की नगरी कहा जाता है। अलकापुरीहिमनद से निकलने के कारण इस नदी को अलकनंदाकहा जाता है। इसी क्षेत्र में सरस्वती नदी भी प्रभावित होती है। अलकनंदाऔर सरस्वती का संगम मांणानामक ग्राम के पास होता है, जो भारत के उत्तरी छोर का अंतिम ग्राम है। मांणाग्राम की उत्तरी सीमा पर सरस्वती नदी के ऊपर एक शिलासेतुहै। इसे भीमसेतुकहा जाता है। मान्यता है कि पांडव लोग सरस्वती नदी के जल में पैर रखकर उसे अपिवत्रनहीं करना चाहते थे। इसलिए भीम ने एक विशाल शिला इस नदी पर रखकर सेतु बना दिया। इसी सेतु से होकर पांडव लोग हिमालय क्षेत्र में हिममृत्युका वरण करने के लिए गए थे। इसे संतोपथअथवा सत्यपथकहा जाता है। भीम-शिला के पास ही भीम का एक मंदिर है।

रामसेतु आध्यात्मिक महत्व का महातीर्थ



रामसेतु आध्यात्मिक महत्व का महातीर्थ

वर्तमान समय में श्रीरामसेतुसर्वत्र चर्चा का विषय बना हुआ है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा द्वारा 8अक्टूबर 2002को रामेश्वरमके समीप भारत और श्रीलंका के मध्य समुद्र में एक सेतु खोज लेने के बाद श्रीरामसेतुको काल्पनिक कहकर इसके अस्तित्व को नकार सकना संभव नहीं है। सीताहरण के बाद श्रीराम की वानरसेनाने लंका पर चढाई करने के लिए समुद्र पर सेतु बनाया था। राम-नाम के प्रताप से पत्थर पानी पर तैरने लगे।
रामसेतुका धार्मिक महत्व केवल इससे ही जाना जा सकता है कि स्कन्दपुराणके ब्रह्मखण्डमें इस सेतु के माहात्म्य का बडे विस्तार से वर्णन किया गया है। नैमिषारण्य में ऋषियों के द्वारा जीवों की मुक्ति का सुगम उपाय पूछने पर सूत जी बोले-
दृष्टमात्रेरामसेतौमुक्ति: संसार-सागरात्।
हरे हरौचभक्ति: स्यात्तथापुण्यसमृद्धिता।

रामसेतु के दर्शनमात्रसे संसार-सागर से मुक्ति मिल जाती है। भगवान विष्णु और शिव में भक्ति तथा पुण्य की वृद्धि होती है। इसलिए यह सेतु सबके लिए परम पूज्य है।
सेतु-महिमा का गुणगान करते हुए सूतजीशौनकआदि ऋषियों से कहते हैं- सेतु का दर्शन करने पर सब यज्ञों का, समस्त तीर्थो में स्नान का तथा सभी तपस्याओं का पुण्यफलप्राप्त होता है। सेतु-क्षेत्र में स्नान करने से सब प्रकार के पाप नष्ट हो जाते हैं तथा भक्त को मरणोपरांत वैकुण्ठ में प्रवेश मिलता है। सेतुतीर्थका स्नान अन्त:करण को शुद्ध करके मोक्ष का अधिकारी बना देता है। पापनाशक सेतुतीर्थमें निष्काम भाव से किया हुआ स्नान मोक्ष देता है। जो मनुष्य धन-सम्पत्ति के उद्देश्य से सेतुतीर्थमें स्नान करता है, वह सुख-समृद्धि पाता है। जो विद्वान चारों वेदों में पारंगत होने, समस्त शास्त्रों का ज्ञान और मंत्रों की सिद्धि के विचार से सर्वार्थसिद्धिदायकसेतुतीर्थमें स्नान करता है, उसे मनोवांछित सिद्धि अवश्य प्राप्त होती है। जो भी सेतुतीर्थमें स्नान करता है, वह इहलोक और परलोक में कभी दु:ख का भागी नहीं होता। जिस प्रकार कामधेनु, चिन्तामणि तथा कल्पवृक्ष समस्त अभीष्ट वस्तुओं को प्रदान करते हैं, उसी प्रकार सेतु-स्नान सब मनोरथ पूर्ण करता है।
रामसेतुके क्षेत्र में अनेक तीर्थ स्थित हैं अत:स्कन्दपुराणमें सेतुयात्राका क्रम एवं विधान भी वर्णित है। सेतुतीर्थमें पहुंचने पर सेतु की वन्दना करें-
रघुवीरपदन्यासपवित्रीकृतपांसवे।
दशकण्ठशिरश्छेदहेतवेसेतवेनम:॥
केतवेरामचन्द्रस्यमोक्षमार्गैकहेतवे।
सीतायामानसाम्भोजभानवेसेतवेनम:॥
श्रीरघुवीर के चरण रखने से जिसकी धूलि परम पवित्र हो गई है, जो दशानन रावण के सिर कटने का एकमात्र हेतु है, उस सेतु को नमस्कार है। जो मोक्षमार्गका प्रधान हेतु तथा श्रीरामचन्द्रजीके सुयश को फहरानेवालाध्वज है, सीताजीके हृदयकमलके खिलने के लिए सूर्यदेव के समान है, उस सेतु को मेरा नमस्कार है।
श्रीरामचरितमानसमें स्वयं भगवान श्रीराम का कथन है-
मम कृत सेतु जो दरसनुकरिही।
सो बिनुश्रम भवसागर तरिही॥

जो मेरे बनाए सेतु का दर्शन करेगा, वह कोई परिश्रम किए बिना ही संसाररूपीसमुद्र से तर जाएगा। श्रीमद्वाल्मीकीयरामायण के युद्धकाण्डके 22वेंअध्याय में लिखा है कि विश्वकर्मा के पुत्र वानरश्रेष्ठनल के नेतृत्व में वानरों ने मात्र पांच दिन में सौ योजन लंबा तथा दस योजन चौडा पुल समुद्र के ऊपर बनाकर रामजी की सेना के लंका में प्रवेश का मार्ग प्रशस्त कर दिया था। यह अपने आपमें एक विश्व-कीर्तिमान है। आज के इस आधुनिक युग में नवीनतम तकनीक के द्वारा भी इतने कम समय में यह कारनामा कर दिखाना संभव नहीं लगता।
महíष वाल्मीकि रामसेतुकी प्रशंसा में कहते हैं- अशोभतमहान् सेतु: सीमन्तइवसागरे।वह महान सेतु सागर में सीमन्त(मांग)के समान शोभित था। सनलेनकृत: सेतु: सागरेमकरालये।शुशुभेसुभग: श्रीमान् स्वातीपथइवाम्बरे॥मगरों से भरे समुद्र में नल के द्वारा निíमत वह सुंदर सेतु आकाश में छायापथके समान सुशोभित था। नासा के द्वारा अंतरिक्ष से खींचे गए चित्र से ये तथ्य अक्षरश:सत्य सिद्ध होते हैं।
स्कन्दपुराणके सेतु-माहात्म्य में धनुष्कोटितीर्थ का उल्लेख भी है-
दक्षिणाम्बुनिधौपुण्येरामसेतौविमुक्तिदे।
धनुष्कोटिरितिख्यातंतीर्थमस्तिविमुक्तिदम्॥

दक्षिण-समुद्र के तट पर जहां परम पवित्र रामसेतुहै, वहीं धनुष्कोटिनाम से विख्यात एक मुक्तिदायक तीर्थ है। इसके विषय में यह कथा है-भगवान श्रीराम जब लंका पर विजय प्राप्त करने के उपरान्त भगवती सीता के साथ वापस लौटने लगे तब लंकापति विभीषण ने प्रार्थना की- प्रभो! आपके द्वारा बनवाया गया यह सेतु बना रहा तो भविष्य में इस मार्ग से भारत के बलाभिमानीराजा मेरी लंका पर आक्रमण करेंगे। लंका-नरेश विभीषण के अनुरोध पर श्रीरामचन्द्रजीने अपने धनुष की कोटि (नोक) से सेतु को एक स्थान से तोडकर उस भाग को समुद्र में डुबो दिया। इससे उस स्थान का नाम धनुष्कोटि हो गया। इस पतितपावनतीर्थ में जप-तप, स्नान-दान से महापातकोंका नाश, मनोकामना की पूर्ति तथा सद्गति मिलती है। धनुष्कोटिका दर्शन करने वाले व्यक्ति के हृदय की अज्ञानमयीग्रंथि कट जाती है, उसके सब संशय दूर हो जाते हैं और संचित पापों का नाश हो जाता है। यहां पिण्डदान करने से पितरोंको कल्पपर्यन्ततृप्ति रहती है। धनुष्कोटितीर्थ में पृथ्वी के दस कोटि सहस्र(एक खरब) तीर्थो का वास है।
वस्तुत:रामसेतुमहातीर्थहै। विद्वानों ने इस सेतु को लगभग 17,50,000साल पुराना बताया है। हिन्दू धर्मग्रन्थों में निर्दिष्ट काल-गणना के अनुसार यह समय त्रेतायुगका है, जिसमें भगवान श्रीराम का अवतार हुआ था। सही मायनों में यह सेतु रामकथा की वास्तविकता का ऐतिहासिक प्रमाण है। समुद्र में जलमग्न हो जाने पर भी रामसेतुका आध्यात्मिक प्रभाव नष्ट नहीं हुआ है।
स्कंदपुराण,कूर्मपुराणआदि पुराणों में भगवान शिव का वचन है कि जब तक रामसेतुकी आधारभूमितथा रामसेतुका अस्तित्व किसी भी रूप में विद्यमान रहेगा, तब तक भगवान शंकर सेतुतीर्थमें सदैव उपस्थित रहेंगे। अत:श्रीरामसेतुआज भी दिव्य ऊर्जा का स्रोत है। पुरातात्विक महत्व की ऐसी सांस्कृतिक धरोहर को संरक्षण प्रदान करते हुए हमें उसकी हर कीमत पर रक्षा करनी चाहिए। यह सेतु श्रीराम की लंका- विजय का साक्षी होने के साथ एक महातीर्थभी है।

Thursday, June 11, 2009

OM PARWAT


OM PARWAT

Om Parvat or Adi Kailash or Chhota Kailash or Baba Kailash or Jonglingkong, is an ancient holy Hindu Himalayan mountain peak at an altitude of 6191 m, in the Himalayan Range lying in the Pithoragarh district of Uttaranchal/Uttarakhand, India near Sinla pass, similar to Mount Kailash in Tibet. The snow deposition pattern gives the impression of 'AUM' (?) written over it, which is sacred Hindu Mantra or chant. Near Om Parvat, beautiful 'Parvati lake' and 'Jonglingkong lake' is situated. The Jonglingkong lake is sacred like Mansarovar to the Hindus. The opposite to this peak there is a mountain called Parwati Muhar is situated , snow over it shines like crown in sun.This peak was climbed for the first time by an Indo-British team including Martin Moran, T. Rankin, M. Singh, S. Ward, A. Williams and R. Ausden. Climbers did not climb above 6,000 M, due to sacred nature of the peak.

वयं रक्षामः


क्या आपने वयं रक्षामः पढ़ी है? यदि नही तो जल्द ही पढिये अदभुत् और सुन्दर पुस्तक है यह आचार्य चतुरसेन शास्त्री द्वारा लिखी यह पुस्तक पौराणिक परिप्रेक्ष्य को नए अंदाज और व्याख्या के साथ प्रस्तुत करती है रामायण काल के बारे मे लिखी इस पुस्तक मे रक्ष तथा यक्ष संस्कृति के आपसी टकरावों की चर्चा की गयी है यह पुस्तक वस्तुतः एक उपन्यास है संस्कृतनिष्ठ हिन्दी मे लिखा गया यह उपन्यास रामायण काल की घटनाओ को रोचक तरीके से प्रस्तुत करता है यह उस काल के भारत का चित्रण करती हैयह केवल एक उपन्यास नही वरन भारत के स्वर्णिम इतिहास का एक वृहद अध्ययन है शास्त्री जी रामायण काल को आज से 7000 वर्ष पूर्व बताते है श्री शास्त्री इसमे वर्णित घटनाओ की भौगोलिक तथा ऐतिहासिक व्याख्या भी सटीक सन्दर्भो के साथ प्रस्तुत करते है
सत्य का संधान आसान नही है, और साहित्य मे सत्य का निरुपण तो और भी कठिन है श्री शास्त्री के शब्दो मे "असल सत्य और साहित्य के सत्य मे भेद है" धार्मिक सहित्यो मे सत्य है, इसमे सन्देह है लगभग सभी धार्मिक साहित्य एक पक्षीय है और विजेताओ (देवताओ) के गुणगान मे लिखे गये है श्री शास्त्री इस परिपाटी से अलग जाते है इस उपन्यास मे श्री राम के साथ-साथ जगत खलनायक रावण का भी सकारात्मक चित्रण किया गया है उस साहसी, महाज्ञानी, महात्वाकांक्षी, सप्तद्वीपपति राजा का सकारात्मक पक्ष दिखाना वस्तुतः एक चुनौती ही है इसके साथ ही उस काल के लगभग सभी संस्कृतियो को दैवीय नही बल्कि वास्तविक रूप मे प्रस्तुत किया हैस्वयं श्री शास्त्री के शब्दो मे "इस उपन्यास मे प्राग्वैदकालीन नर, नाग्, देव्, दैत्य-दावन, आर्य, अनार्य आदि विविध नृवंशो के जीवन के वे विस्मृत पुरातन रेखाचित्र है, जिन्हे धर्म के रंगीन शीशे मे देखकर सारे संसार ने अन्तरिक्ष का देवता मान लिया था"
संसार मे संस्कृतियो का संघर्ष सदैव होता रहा है पुराकाल मे भी देव-दैत्य, आर्य-अनार्य, यक्ष-रक्ष इत्यादि संघर्षो की बाते मिलती है श्री शास्त्री इन विभिन्न संस्कृतियो का चित्रण इस उपन्यास मे करते हैआर्य संस्कृति के बारे में यह कुछ इस प्रकार बताती है,
‘उन दिनों तक भारत के उत्तराखण्ड में ही आर्यों के सूर्य-मण्डल और चन्द्र मण्डल नामक दो राजसमूह थे। दोनों मण्डलों को मिलाकर आर्यावर्त कहा जाता था। उन दिनों आर्यों में यह नियम प्रचलित था कि सामाजिक श्रंखला भंग करने वालों को समाज-बहिष्कृत कर दिया जाता था। दण्डनीय जनों को जाति-बहिष्कार के अतिरिक्त प्रायश्चित जेल और जुर्माने के दण्ड दिये जाते थे। प्राय: ये ही बहिष्कृत जन दक्षिणारण्य में निष्कासित, कर दिये जाते थे। धीरे-धीरे इन बहिष्कृत जनों की दक्षिण और वहां के द्वीपपुंजों में दस्यु, महिष, कपि, नाग, पौण्ड, द्रविण, काम्बोज, पारद, खस, पल्लव, चीन, किरात, मल्ल, दरद, शक आदि जातियां संगठित हो गयी थीं।’
रावण ने दक्षिण में जोड़ने के लिए नयी संस्कृति का प्रचार किया। उसने उसे रक्ष संस्कृति का नाम दिया। रावण जब भगवान शिव की शरण में गया तो उसने इसे कुछ इस तरह से बताया,
‘हम रक्षा करते हैं। यही हमारी रक्ष-संस्कृति है। आप देवाधिदेव हैं। आप देखते ही हैं कि आर्यों ने आदित्यों से पृथक् होकर भारतखण्ड में आर्यावर्त बना लिया है। वि निरन्तर आर्यजनों को बहिष्कृत कर दक्षिणारण्य में भेजते रहते हैं। दक्षिणारण्य में इन बहिष्कृत वेद-विहीनव्रात्यों के अनेक जनपद स्थापित हो गये हैं। फिर भारतीय सागर के दक्षिण तट पर अनगिनत द्वीप-समूह हैं, जहां सब आर्य, अनार्य, आगत, समागत, देव, यक्ष, पितर, नाग, दैत्य, दानव, असुर परस्पर वैवाहिक सम्बन्ध करके रहते हैं। फिर भी सबकी संस्कृति भिन्न है, परन्तु हमारा सभी का एक ही नृवंश है और हम सब परस्पर दायाद बान्धव हैं। मैं चाहता हूं कि मेरी रक्ष-संस्कृति में सभी का समावेश हो, सभी की रक्षा हो। इसी से मैंने वेद् का नया संस्करण किया है और उसमें मैंने सभी दैत्यों-दानवों की रीति-परम्पराओं को भी समावेशित किया है, जिससे हमारा सारा ही नृवंश एक वर्ग और एक संस्कृति के अन्तर्गत वृद्घिगत हो। आप देखते हैं कि गत एक सौ वर्षों में तेरह देवासुर-संग्राम हो चुके, जिनमें इन बस दायाद् बान्धवों ने परस्पर लड़कर अपना ही रक्त बहाया। विष्णु ने दैत्यों से कितने छल किए। देवगण अब भी अनीति करते हैं। काश्यप सागर-तट की सारी दैत्यभूमि आदित्यों ने छलद्घबल से छीनी है। अब सुन रहा हूं कि देवराट् इन्द्र चौदहवें देवासुर-संग्राम की योजना बना रहा है। ये सब संघर्ष तथा युद्घ तभी रोके जा सकते हैं, जब सारा नृवंश एक संस्कृति के अधीन हो इसीलिये मैंने अपनी वह रक्ष-संस्कृति प्रतिष्ठित की है।’
हालांकि अब रक्षो का चित्रण नर रूप मे नही बल्कि कुछ विचित्र, कुरुप और दुर्दान्त प्राणियो के रूप मे होता है, जिसका कोइ वैज्ञानिक प्रमाण नही मिलता है इस मिथ्या प्रचार मे बुद्धु-बक्से (टेलीविजन) ने कुछ ज्यादा ही भूमिका निभाइ है
इस पुस्तक के अनुसार रावण ने उत्तर भारत में अपने दो सैन्य सन्निवेश स्थापित किये पहला दण्डकारण्य (वर्तमान मे नासिक) में और दूसरा नैमिषारण्य। दण्डकारण्य का राज्य अपनी बहिन सूर्पनखा को दिया। उसे वहां अपने मौसी के बेटे खर और सेनानायक दूषण को चौदह हजार सुभट राक्षस देकर उसके साथ भेज दिया। दण्डकारण्य में राक्षसों का एक प्रकार से अच्छी तरह प्रवेश हो गया तथा भारत का दक्षिण तट भी उसके लिए सुरक्षित हो गया। लंका में कुबेर को भगा देने के बाद बहुत सारे यक्ष यक्षणी वहीं रूक गये थे। ताड़का भी एक यक्षणी थी। उसने रक्ष संस्कृति स्वीकार कर ली। उसने रावण से कहा,
‘हे रक्षराज, आप अनुमति दें तो मैं आपकी योजनापूर्ति में सहायता करूं। आप मेरी बात ध्यानपूर्वक सुनिए। मेरा पिता सुकेतु यक्ष महाप्रतापी था। भरतखण्ड में- नैमिषारण्य में उसका राज्य था। उसने मुझे सब शस्त्र-शास्त्रों की पुरूषोचित शिक्षा दी थी और मेंरा विवाह धर्मात्मा जम्भ के पुत्र सुन्द से कर दिया था जिसे उस पाखण्डी ऋषि अगस्त्य ने मार डाला। अब उस वैर को हृदय में रख मैं अपने पुत्र को ले जी रही हूं। जो सत्य ही आप आर्यावर्त पर अभियान करना चाहते हैं, तो मुझे और मेरे पुत्र मारीच को कुछ राक्षस सुभट देकर नैमिषारण्य में भेज दीजिए, जिससे समय आने पर हम आपकी सेवा कर सकें। वहां हमारे इष्ट-मित्र, सम्बन्धी-सहायक बहुत हैं, जो सभी राक्षस -धर्म स्वीकार कर लेंगे।’
रावण ने, ताड़का की यह बात मान ली। उसे राक्षस भटों का एक अच्छा दल दिया जिसका सेनानायक उसी के पुत्र मारीच को बनाया तथा सुबाहु राक्षस को उसका साथी बनाकर नैमिषारण्य में भेज दिया।
विश्वविजय की महात्वाकांक्षा भी पुराकाल से मनुष्यो मे रही है नेपोलियन्, हिटलर इत्यादि कुछ उदाहरण है परन्तु प्राचीन भारत से ऐसे उदाहरण बहुत कम मिलते है जिसमे विश्वविजय के लिये समुद्र-यात्रा की गयी हो आर्य संस्कृति के अनेको पुरोधाओ का सोचना था कि समुद्र अगम्य है परन्तु रावण की महात्वाकांक्षा को समुद्र भी नही रोक सका

प्रेतात्माओं की तस्वीर लेने वाला कैमरा!

प्रेतात्माओं की तस्वीर लेने वाला कैमरा!

लंदन। भूत-प्रेत और आत्माओं को प्रत्यक्ष देखने का सुबूत कोई नहीं दे सकता, लेकिन लेकिन एक ब्रिटिश व्यक्ति का दावा है कि उसने ऐसा कैमरा ईजाद कर लिया है जो भूत-प्रेत की तस्वीर उतार सकता है। पाल रोलैंड का कहना है कि उन्होंने हाल ही में अपने बनाए कैमरे से एक बच्चे के भूत की तस्वीर खींची है। उन्होंने बताया कि यह कैमरा अल्ट्रावायलट और इंफ्रारेड लाइट की मदद से उस छाया को भी अपने में कैद कर सकता है, जिसे बाकी कैमरे अपने अंदर नहीं उतार पाते।
रोलैंड का कहना है कि टीवी पर एक डरावना शो देखने के बाद उनके मन में ऐसा कैमरा बनाने का खयाल आया, जो भूत-प्रेत की तस्वीरें उतार सके। उन्होंने बताया कि कैमरे में अल्ट्रावायलट और नीली रोशनी का इस्तेमाल अंधेरे में बेहतर तस्वीर लेने के लिए किया गया है। इसमें इलेक्ट्रानिक वायस फिनोमिना [इवीपी] तकनीक भी इस्तेमाल की गई है। उनका दावा है कि उनके खास कैमरे से लोग हां या ना में मरे हुए लोगों से बातचीत भी कर सकते हैं। वह अपने कैमरे को किसी कमरे में मौजूद अदृश्य शक्तियों को रिकार्ड करने में भी सक्षम बताते हैं। वह कहते हैं कि अब तो बस उनके भूतिया कैमरे को एक अच्छे-से नाम की जरूरत है।

रावण होने का दर्द!



रावण होने का दर्द!

रावण में कुछ अवगुण जरूर थे, लेकिन उसमें कई गुण भी मौजूद थे, जिन्हे कोई भी व्यक्ति अपने जीवन में उतार सकता है। यदि हम रामायण के प्रसंगों को बारीकी से पढ़ें, तो रावण न केवल महाबलशाली था, बल्कि बुद्धिमान भी था। फिर उसे सम्मान क्यों नहीं दिया जाता? कहा जाता है कि वह अहंकारी था। लेकिन यहां एक प्रश्न यह भी उठता है कि क्या हमारे कुछ देवी-देवता अहंकारी नहीं रहे हैं? जहां तक सवाल सीता-हरण का है तो इस घटना के पीछे रावण की बहन शूर्पणखा का हाथ था, जिससे रावण बेहद प्यार करता था। शूर्पणखा के उकसाने पर ही उसने सीता का हरण किया था। जहां तक स्त्रियों के प्रति रावण के आकर्षण की बात है तो कई ऐसी धार्मिक कथाएं हैं, जिनमें स्त्रियों पर देवताओं के मोहित होने की चर्चा है। मान्यता है कि इंद्र देवताओं के राजा है, लेकिन इंद्र का दरबार अप्सराओं से सजा रहता था। ज्ञानी और समाजसुधारक जनमानस में रावण की छवि एक खलनायक या बुरे इंसान की बनी हुई है, जबकि वह तपस्वी भी था। रावण ने कठोर तपस्या के बल पर ही दस सिर पाए थे। इंसान के मस्तिष्क में बुद्धि और ज्ञान का अथाह भंडार होता है। इसके बल पर यदि वह चाहे, तो कुछ भी हासिल कर सकता है। रावण के तो दस सिर यानी दस मस्तिष्क थे। इसी से अंदाज लगाया जा सकता है कि वह कितना ज्ञानी रहा होगा। लेकिन, रावण की गाथाओं को और उसके दूसरे पहलू पर ध्यान नहीं दिया गया और रावण एक अहंकारी खलनायक बनकर रह गया। यदि हम अलग-अलग स्थान पर प्रचलित राम कथाओं को जानें, तो रावण को बुरा व्यक्ति नहीं कहा जा सकता है। जैन धर्म के कुछ ग्रंथों में रावण को 'प्रतिनारायण' कहा गया है।
रावण समाज सुधारक और प्रकांड पंडित था। तमिल रामायणकार 'कंब' ने उसे सद्चरित्र कहा है। रावण ने सीता के शरीर का स्पर्श तक नहीं किया, बल्कि उनका अपहरण करते हुए वह उस 'भूखंड' को ही उखाड़ लाता है, जिस पर सीता खड़ी है। गोस्वामी तुलसीदास ने भी कहा है कि रावण जब सीता का अपहरण करने आया, तो वह पहले उनकी वंदना करता है।
'मन मांहि चरण बंदि सुख माना।'
महर्षि याज्ञवल्क्य ने इस वंदना को विस्तारपूर्वक बताया है। 'मां' तू केवल राम की पत्नी नहीं, बल्कि जगत जननी है। राम और रावण दोनों तेरी संतान के समान हैं। माता योग्य संतानों की चिंता नहीं करती, बल्कि वह अयोग्य संतानों की चिंता करती है। राम योग्य पुरुष हैं, जबकि मैं सर्वथा अयोग्य हूं, इसलिए मेरा उद्धार करो मां। यह तभी संभव है, जब तू मेरे साथ चलेगी और ममतामयी सीता उसके साथ चल पड़ी।


ज्योतिष और आयुर्वेद का ज्ञाता
लंकापति रावण तंत्र-मंत्र, सिद्धि और दूसरी कई गूढ़ विद्याओं का भी ज्ञाता था। ज्योतिष विद्या के अलावा, उसे रसायन शास्त्र का भी ज्ञान प्राप्त था। उसे कई अचूक शक्तियां हासिल थीं, जिनके बल पर उसने अनेक चमत्कारिक कार्य संपन्न किए। 'रावण संहिता' में उसके दुर्लभ ज्ञान के बारे में विस्तार से वर्णन किया गया है। वह राक्षस कुल का होते हुए भी भगवान शंकर का उपासक था। उसने लंका में छह करोड़ से भी अधिक शिवलिंगों की स्थापना करवाई थी।
यही नहीं, रावण एक महान कवि भी था। उसने 'शिव ताण्डव स्त्रोत्म' की। उसने इसकी स्तुति कर शिव भगवान को प्रसन्न भी किया। रावण वेदों का भी ज्ञाता था। उनकी ऋचाओं पर अनुसंधान कर विज्ञान के अनेक क्षेत्रों में उल्लेखनीय सफलता अर्जित की। वह आयुर्वेद के बारे में भी जानकारी रखता था। वह कई जड़ी-बूटियों का प्रयोग औषधि के रूप में करता था।

रावण ने राम को 'राम' बनाया
यदि रामायण या राम के जीवन से रावण के चरित्र को निकाल दिया जाए, तो सोचिए कि संपूर्ण रामकथा का अर्थ ही बदल जाएगा। स्वयं राम ने रावण के बुद्धि और बल की प्रशंसा की है। इसलिए जब रावण मृत्यु-शैय्या पर था, तब राम ने लक्ष्मण को रावण से सीख लेने के लिए कहा। उन्होंने आदेश दिया कि वह रावण के चरणों में बैठकर सीख ले। उधर युद्ध में मूचिर््छत लक्ष्मण को देख कर रावण ने चिकित्सक को बुलाने की अनुमति देते हुए कहा था, 'जहां एक ओर मृतक हमसे सम्मान और अंत्येष्टि, वहीं दूसरी ओर घायल योद्धा सहानुभूति और सेवा पाने के अधिकारी हैं।'

पूजा जाता है रावण
महाराष्ट्र के अमरावती और गढ़चिरौली जिले में 'कोरकू' और 'गोंड' आदिवासी रावण और उसके पुत्र मेघनाद को अपना देवता मानते हैं। अपने एक खास पर्व 'फागुन' के अवसर पर वे इसकी विशेष पूजा करते हैं। इसके अलावा, दक्षिण भारत के कई शहरों और गांवों में भी रावण की पूजा होती है।







Most people associate Ravana with only evil, but few know that he was the world's greatest scholar of Vedas, and the greatest worshipper of Shiva. The 'Tandava Stotram' (see image below), are verses written by him describing Shiva's power and beauty and they are considered the best Sanskrit poetry ever. Just try reading them and you will know why! Lord Shiva granted him the boon of indestructibility by all powers on heaven and earth - except by a human being. After getting tired of rampaging across the Earth, he realized that his powers have trapped him in the endless circle of life. He returned to Lord Shiva to request moksha, who told him that he must instead seek moksha from Lord Vishnu. His battle with Rama was a pretext to attain death, and through death, the ultimate liberation.

चलो चलें कैलाश



चलो चलें कैलाश



कैलाश मानसरोवर को शिव-पार्वती का घर माना जाता है। सदियों से देवता, दानव, योगी, मुनि और सिद्ध महात्मा यहां तपस्या करते आए हैं। रामायण की कहानियां कहती हैं कि हिमालय जैसा कोई दूसरा पर्वत नहीं है, क्योंकि यहां कैलाश और मानसरोवर स्थित हैं।
हर वर्ष मई-जून में सैकड़ों तीर्थयात्री कैलाश मानसरोवर की यात्रा करते हैं। इसके लिए उन्हें भारत की सीमा लांघकर चीन में प्रवेश करना पड़ता है, क्योंकि यह क्षेत्र इसी देश में है। कैलाश पर्वत की ऊंचाई समुद्र तल से लगभग 20 हजार फीट है। इसलिए तीर्थयात्रियों को कई पर्वत-ऋंखलाएं पार करनी पड़ती हैं।
कैलाश परिक्रमा
कैलाश पर्वत कुल 48 किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। यदि आप इसकी परिक्रमा करना चाहते हैं, तो यह परिक्रमा कैलाश की सबसे निचली चोटी 'दारचेन' से शुरू होती है और सबसे ऊंची चोटी 'डेशफू गोम्पा' पर पूरी होती है। यहां से कैलाश पर्वत को देखने पर ऐसा लगता है, मानों भगवान शिव स्वयं बर्फ से बने शिवलिंग के रूप में विराजमान हैं। इस चोटी को 'हिमरत्न' भी कहा जाता है। परिक्रमा के दौरान आपको एक किलोमीटर परिधि वाला 'गौरीकुंड' भी मिलेगा। यह कुंड हमेशा बर्फ से ढंका रहता है, मगर तीर्थयात्री बर्फ हटाकर इस कुंड के पवित्र जल में स्नान करना नहीं भूलते।
मानसरोवर
यह पवित्र झील समुद्र तल से लगभग 4 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है और लगभग 320 स्क्वॉयर किलोमीटर में फैली हुई है। यहीं से एशिया की चार प्रमुख नदिया-ब्रह्मपुत्र, करनाली, सिंधु और सतलज निकलती है। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, जो व्यक्ति मानसरोवर की धरती को छू लेता है, वह ब्रह्मा के बनाये स्वर्ग में पहुंच जाता है और जो व्यक्ति झील का पानी पी लेता है, उसे भगवान शिव के बनाये स्वर्ग में जाने का अधिकार मिल जाता है।
जनश्रुतियां हैं कि ब्रह्मा ने अपने मन-मस्तिष्क से मानसरोवर बनाया है। दरअसल, मानसरोवर संस्कृत के मानस (मस्तिष्क) और सरोवर (झील) शब्द से बना है। मान्यता है कि ब्रह्ममुहुर्त (प्रात:काल 3-5 बजे) में देवता गण यहां स्नान करते हैं।
शक्त ग्रंथ के अनुसार, सती का हाथ इसी स्थान पर गिरा था, जिससे यह झील तैयार हुई। इसलिए इसे 51 शक्तिपीठों में से एक माना गया है। गर्मी के दिनों में जब मानसरोवर की बर्फ पिघलती है, तो एक प्रकार की आवाज भी सुनाई देती है। श्रद्धालु मानते हैं कि यह मृदंग की आवाज है। मान्यता यह भी है कि कोई व्यक्ति मानसरोवर में एक बार डुबकी लगा ले, तो वह रुद्रलोक पहुंच सकता है।
राक्षस ताल
मानसरोवर के बाद आप राक्षस ताल की यात्रा करेगे। यह लगभग 225 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला है। प्रचलित है कि रावण ने यहां पर शिव की आराधना की थी। इसलिए इसे राक्षस ताल या रावणहृद भी कहते हैं। एक छोटी नदी 'गंगा-चू' दोनों झीलों को जोड़ती है।
हिंदू के अलावा, बौद्ध और जैन धर्म में भी कैलाश मानसरोवर को पवित्र तीर्थस्थान के रूप में देखा जाता है। बौद्ध समुदाय कैलाश पर्वत को 'कांग रिनपोचे' पर्वत भी कहते हैं। उनका मानना है कि यहां उन्हें आध्यात्मिक सुख की प्राप्ति होती है।
कहा जाता है कि मानसरोवर के पास ही भगवान बुद्ध महारानी माया के गर्भ में आये। जैन धर्म में कैलाश को 'अष्टपद पर्वत' कहा जाता है। जैन धर्म के अनुयायी मानते हैं कि जैन धर्म गुरु ऋषभनाथ को यहीं पर आध्यात्मिक ज्ञान मिला था।
कैलाश मानसरोवर की यात्रा करने से पहले तीर्थयात्रियों को कुछ बातों को ध्यान में रखना पड़ता है।
उन्हें किसी भी प्रकार की स्वास्थ्य संबंधी समस्या नहीं होनी चाहिए।
चूंकि यह तीर्थस्थान चीन की सीमा में स्थित है, इसलिए उन्हें विदेश मंत्रालय में अपना प्रार्थनापत्र देना होता है। चीन से वीजा मिलने के बाद ही आप कैलाश मानसरोवर की यात्रा कर सकते हैं।
दिल्ली के सरकारी अस्पताल में दो दिन तक आपके फिजिकल फिटनेस की जांच की जाती है। जांच में फिट होने के बाद ही आपको इस यात्रा की अनुमति मिल पाती है। दरअसल, कैलाश मानसरोवर की यात्रा के दौरान आपको 20 हजार फीट की ऊंचाई तक भी जाना पड़ सकता है।

खजुराहो के मंदिरों में नारी सौंदर्य

विश्वविख्यात खजुराहो के मंदिर मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में है। खजुराहो खर्जुरवाहक का परिवर्तित रूप माना गया है। कनिंघम के अनुसार खर्जुर वाटिका से खजुवाटिका और फिर खजुराहो हो गया।
खजुराहो के मंदिर अपनी आकृति सौंदर्य के लिए ही नहीं, वरन् अपने जीवंत शिल्प के कारण विश्रुत है। बिना परकोटा के सभी मंदिर ऊंचे चबूतरे पर निर्मित है। बहुत-से मंदिरों में गर्भगृह के बाहर तथा दीवारों पर मूर्तियों की दो-तीन पंक्तियां है। इनमें मुख्य देवी-देवताओं की मूर्तियां, आलिंगनबद्ध युगल, नाग, शार्दूल और शाल-भंजिका तथा अनुपम नारी-सौंदर्य की प्रतिमाएं उत्कीर्ण है। दैनन्दिन मानवीय जीवन के उल्लास, पीड़ा-व्यथा, संगीत-गायन तथा नृत्य की मुद्राओं में ये पाषाण प्रतिमाएं तत्कालीन शिल्पियों के कला-कौशल की चिर स्मारक है। मुखर, मांसल, लावण्य की स्पन्दमयी चरम सीमाओं को मूर्त करते हुए खजुराहो के पाषाणी उभार दर्शकों की आंखों में घर कर लेते है।
पाषाण जैसे कठोर फलक पर उत्कीर्ण खजुराहो कला की जान अप्सराओं एवं सुर-सुन्दरियों की मूर्तियां, कोमल भावनाओं की अन्यतम् अभिव्यक्तियां है। सौंदर्य की जितनी भी मृदु-मधुर अभिव्यक्तियां हो सकती है, वह वैभिन्य एवं मोहकता के साथ पत्थर पर ढाल दी गई हैं। देवी-देवताओं, पशु-पक्षियों की अपेक्षा नारी-सौंदर्य का अंकन अनुपम एवं विलक्षण है। देवीय गुणों से युक्त नारी तथा उसकी सामाजिक स्थिति खजुराहो में अपने सुंदरतम रूप में अभिव्यक्ति हुई है। खजुराहो की नारी सर्वाग सुंदर है- बाहर से भी और भीतर से भी। वह सुशिक्षित है, नृत्य-संगीत की पंडिता है, चित्रकला प्रवीणा है, खेल-कूद में रुचि रखने वाली है। वह गेंद लिए अनेक स्थानों पर मूर्तित है। विभिन्न प्रकार से अपने जूड़ों को संवारते हुए, ललाट पर तिलक लगाते हुए, नेत्रों में अंजन लगाते हुए, अधरों पर लाली लगाते हुए और चरणों में मेंहदी रचाती हुई नारी-मूर्तियों को देखकर श्रृंगार प्रसाधन संबंधी रुचियों का पता लगता है। आभूषणों, पुष्प-मालाओं एवं पुष्पों से आभूषित नारी के अनेक रूप यहां उत्कीर्ण है।
घरेलू नारी का मूर्तिकरण भी यहां द्रष्टव्य है। जल भरते हुए, ईश्वर की आराधना करते हुए, पुत्र को प्यार करते हुए नारी के रूप मनोहर है। सद्य:स्नाता तथा केश प्रच्छालन करती नारी की मूर्ति अत्यन्त कमनीय है और दर्शक को अभिभूत कर देती है। मूर्तियों को ध्यान से देखने पर पता चलता है कि खजुराहो की मध्यकालीन नारी वस्त्रों का उपयोग कम ही करती थी। कटि के नीचे धोती है पर सिर पर ओढ़नी नहीं। वक्ष पर कंचुकी है पर उत्तारीय नहीं। ऐसा लगता है- रूप सौंदर्य के प्रदर्शन में तत्कालीन नारी लज्जा का अनुभव नहीं करती थी।
नारी मूर्तियों के अंग-प्रत्यंग की रचना देखते ही बनती है। नारी के खड़े होने, चलने-फिरने सभी में एक विशेष सौंदर्य योजना है। उसके प्रत्येक हाव-भाव में कोमलता, क्रिया विदग्धता और कटाक्ष है। हाव-भाव की संरचना में कलाकार ने अंगुलियों एवं आंखों की क्रियाशीलता का विशेष ध्यान रखा है। यही बात वक्ष एवं पृष्ठभाग के विषय में भी कही जा सकती है। श्रोणि भाग को सामने लाने के लिए कहीं-कहीं शरीर में इतना मरोड़ लाया गया है कि स्वाभाविकता नष्ट हो गई है। अतिक्षीण, कोमल एवं लचीली कमर यौवन-भार को संभालने में असमर्थ-सी लगती है।
युग्मभाव को मूर्तित करने वाली नारी-मूर्तियां प्रेम और प्रसंग के व्यापार में पुरुष की तरह सचेष्ट एवं आनंदित प्रतीत होती है। वे यौवन के उत्ताल तरंगों पर दोलायमान है। खजुराहो का पुरुष लम्पट और व्यभिचारी नहीं। वह प्रेम और स्त्री-प्रसंग को पवित्र यज्ञ-सा समझता हुआ प्रतीत होता है। उसके पीछे एक धार्मिक भावना अन्तर्निहित-सी प्रतीत होती है।
कामिनी की कमनीय देह वल्लरी हर लोच और लचक को रेखांकित करती है मूर्तियां। स्त्री-चरणों के नुपूर, पायल, पैजनी तथा तोडल, मध्य भाग के कटिबंध मणि झालर तथा स्वर्णपट्टिका, वक्ष की दो लड़ी से सात लड़ तक की मणिमाला, वैजयंतीमाला, मोहनमाला, हार विदानी और बीजक पूरक, हाथों के स्वर्ण वलय, मणिकंठान, भुजबंध, गजरा, बधमुंहा, चूड़ा बंगरी तथा बबूल फली, बोहटा आदि माथे की बिंदिया, दामिनी, शीश फूल और सिर की पुष्पमाला, पुष्पमुकुट, जटामुकुट, मुक्तादाम तथा स्वर्ण श्रृंखलाओं का अंकन भी कुशलता के साथ किया गया है।
प्रिय-पत्र में लवलीन प्रोषित पतिका, पगतल में आलक्तक रमाती हुई कामिनी, नेत्रों को अंजन-शलाका का स्पर्श देती हुई सुलोचना, बालक को पयपान कराती स्नेह वत्सला जननी तथा पैर से कंटक मोचन करती विपगथा तथा नुपूर बांधती हुई नृत्योद्धत किन्नर बाला की विख्यात प्रतिमाएं अपनी जीवंत कला को समाहित कर रही है।
आभरण, अलंकार, आयुध और परिकर के अतिरिक्त खजुराहो की विशेषता तो इन प्रतिमाओं के आनन पर विभिन्न मनोभावों का ऐसा सजीव चित्रण है, जिसके आधार पर यह कहने का मन होता है कि यहां के कलाकारों ने स्थूल शरीर का निर्माण कर विराम नहीं लिया, वरन् उनमें प्राण-संचार भी किया है।

Photos of Parad

















Wednesday, June 10, 2009

RAS - PARAD - MERCURY





















































































RAS - PARAD - MERCURY

Good mercury is said to be bright like the mid-day sun externally, and of a bluish tinge internally. Mercury of a yellowish-white, purple, or variegated colour should not be used in medicine. Mercury, as met with in commerce, contains several sorts of impurities, such as tin, lead, dirt, stone, etc. If administered in an impure state it is said to bring on a number of diseases; hence it is purified before use. Various processes for purifying mercury are described in books. At the present day the following is generally adopted by Kavirάjas. Mercury is first rubbed with brick-dust and garlic, then tied in four folds of cloth and boiled in water over a gentle fire for three-hours in an apparatus called Dolά yantra. When cool, it is washed in cold water and dried in the sun. Some practitioners use betle-leaves instead of garlic for rubbing the mercury with. Mercury obtained by sublimation of cinnabar is considered pure and preferred for internal use.1 Cinnabar is first rubbed with lemon juice for three hours, and then sublimed in the apparatus called Urddhapatana yantra. The mercury is deposited within the upper pot of the apparatus, in form of a blackish powder. This is scraped, rubbed with lemon-juice and boiled in water, when it is fit for use. A peculiar form of mercury called Shadguna bali jάrita rasa2 is thus prepared. A little sulphur is placed in an earthen pot, and over it some mercury. The pot is heated in a sand-bath, and, as the sulphur begins to melt, cautiously and gradually more of it is added to or placed over the mercury, altogether to the extent of six times the weight of the mercury. When the whole is melted like oil the pot should be quickly removed from the fire, and cooled till the mass is consolidated. It should then be broken, and the mercury extracted from within the mass. Mercury thus obtained is said to be superior to all other forms, but it is not much used at present.
**************************************

The purified metal obtained by the processes above mentioned is employed for the preparation of mercurial compounds. Four preparations of mercury are described in books, namely, black, white, yellow, and red, called respectively, krishna, sveta, pita and rakta bhasrnas.

1. Krishna bhasma.
The black preparation is the black sulphide of mercury, made by rubbing together and dissolving over the fire three parts of mercury with one of sulphur.l

2. Rasakarpura. The white preparation is the Rasakarpara or perchloride of mercury. Several processes are given for preparing it; one is as follows.2 Take of mercury and chalk equal parts, and rub them together till the globules disappear. Rub this mixture of chalk and mercury with pάnsu (salt obtained from saline earth) and the juice of Euphorbia nereifolia (snuhi) repeatedly. Enclose in a covered crucible and heat it within a pot full of rock salt. The perchloride of mercury will be deposited in the shape of a pure white powder under the lid of the crucible. The Bhάvaprakάsa gives the following process for its preparation.3 Take of purified mercury, gairika (red-ochre),brick dust, chalk, alum,rock salt, earth from ant-hill, kshάri lavana (impure sulphate of soda) and bhanda-ranjaka, or red earth used in colouring pots, in equal parts, rub together and strain through cloth. Place the mixture in an earthen pot, cover it with another pot, face to face, and lute the two together with layers of clay and cloth. The pots so luted are then placed on fire, and heated for four days, after which they are opened, and the white camphor-like deposit in the upper pot is collected for use.

3. Pita bhasma. The yellow preparation called Pita bhasma1 is directed to be prepared as follows. Take of mercury and sulphur equal parts, rub them together for seven days with the juice of bhumyάmalaki (Phyllanthus neruri) and hastisundi (Heliotropium Indicum). Place the mixture in a covered crucible, and heat it in a sand-bath for twelve hours. The result will be a yellow compound.

4. Rakta bhasma. The red preparation called Rakta bhasma or Rasa sindura2 is prepared in a variety of ways- The following is one of them. Take of mercury and sulphur equal parts, rub together with the juice of the red buds of Ficus Bengalensis (vata) for three days successively, introduce the mixture within a bottle and heat it in a sand-bath for twelve hours. A red deposit will adhere below the neck of the bottle. It is taken out in the shape of dark red shining scales.

The four preparations of mercury above mentioned, though described in most works on metalic medicines, are not, practically used in the treatment of disease under these names. In the present day the yellow preparation is not in use. The white form called Rasaharpura is now prepared, not according to the processes described in Sanskrit works, but by subliming the black sulphide of mercury with common or rock salt. In this form it is largely manufactured and sold in all the bazars. The red preparation is better known as Rasa sindura; and the black one as Rasa parpati. In fact, practically, prepared mercury means the red preparation or Rasa sindura and this is the form in which it is largely used. Besides this, the black and red sulphides of mercury are also used internally. The black sulphide is prepared by rubbing together equal parts of sulphur and mercury till the globules disappear. It is called Kajjali.1 The red sulphide or cinnabar is called hingula. These four preparations, namely, cinnabar, the black sulphide called Kajjali, the red preparation called Rasasindura, and the Rasakarpura of the bazar, nre the four principal forms in which mercury is used in Hindu medicine; that is, they constitute the basis of all the formulas containing mercury.
Mercury is said to be imbued with the six tastes, and capable of removing derangements of all the humours. It is the first of alterative tonics. Combined with other appropriate medicines it cures all diseases, acts as a powerful tonic and improves the vision and complexion.
In fevers of all descriptions, mercury is extensively used in combination with aconite, croton seed, datura, and other medicines. The following are a few illustrations.
Hingulesvara. Take of cinnabar, aconite, and long pepper, equal parts, rub together in a mortar and make into pills about four grains each. They are given, beaten up with a little
honey, in ordinary remittent fever.1
Taruna jvarάri.2 Take of mercury, sulphur, aconite and croton seeds, equal parts, rub together with the juice of
Aloe Indica and make into four grain pills. These pills act on the bowels and relieve fever. They are administered with sugar and water.
In diarrhoea and dysentery, mercury is used in a great variety of forms. The following are a few examples.
Vajrakapάta rasa.3 Take of mercury, sulphur, opium, mocha-rasa, (gum of
Bombax Malabaricum), the three myrobalans, ginger, black pepper, and long pepper, in equal parts, powder and mix. Soak the powder in the juice of the leaves of Cannabis sativa (Vijaya) and Verbesina calendulacea {bhringaraja) seven times and make into six grain pills. This medicine is administered with honey in obstinate chronic diarrhoea. Dose grains four to twenty-four.
Rasa parpati4 This is prepared by melting together a mixture of equal parts of sulphur and mercury in an
iron ladle, smeared with ghee (clarified butter). The melted fluid is poured on a piece of plantain leaf, placed on a ball of cowdung. It is then pressed by another ball of cowdung, enclosed in plantain leaf. When cool, the black sulphide of mercury is obtained in the shape of round disks. It is much used alone, or with the addition of other medicines, in chronic diarrhoea. Other varieties of Parpati or mercurial preparations in shape of disks are prepared with the addition of iron, gold, copper etc, and used in this complaint, as for example, Svarna parpati, Panchάmrita parpati etc. The preparation of the former will be described under the head gold. The latter is thus prepared.
Panchάmrita parpati.1 Take of sulphur eight tolas, mercury four tolas, prepared iron two tolas, prepared
talc one tola, prepared copper half a tola. Rub together in an iron mortar, melt in an iron ladle and prepare disks like those of Rasa parpati, above described. Dose four grains with honey and ghee, to be gradually increased to sixteen or eighteen grains. Parpatis of different sorts when given in cases of diarrhoea with anasarca are conjoined with a milk diet, water and salt being prohibited.
Mahάgandha rasa.2 Take of mercury and sulphur each two tolas, and make a Parpati as before described. Take of nutmegs, mace, cloves, and nim leaves, each two tolas, powder them well, mix together, and inclose the mixture within bi-valve shells. Cover the shells with a layer of clay and roast in fire. When cool, extract the medicine from the shells. It is administered in doses of abont four grains in the acute diarrhoea of children.
Pάndusudana rasa.1 In jaundice, mercury is used along with other alteratives and purgatives, as in the following, called Pandusudana rasa. Take of mercury, sulphur, prepared copper, croton seeds and bdellium, equal parts, rub them together with ghee and make into two-grain pills. They are given with the juice of nim bark and honey in jaundice. Acids and cold water for drinking should be avoided.

In affections of the lungs mercury is used in a variety of combinations. The following are a few illustrations.
Rasendra gudikά.2 Take of purified mercury two tolas. Add to it one tola of the juice of jayanti leaves (Sesbania AEgyptica) and of fresh ginger, rub together till the mixture thickens, then soak it in the juice of Jussicea repens (kanchata) and
Solanum Indicum (vrihati) respectively for twenty-four hours. Take of purified sulphur eight tolas and soak in the juice of Verbesina calendulacea (bhringarάja). When dry, mix the sulphur with the mercury, and rub together with sixteen tolas of goat-milk till the mass is fit for being made into pills. Dose about four grains, to be taken with goat-milk and juice of ginger. This pill is useful in bronchitis and cough generally.
Rajamrigάnka rasa.3 Take of Rasa sindura three parts, prepared gold and copper one part each, realgar, orpiment and sulphur two parts each and mix. Introduce the mixture into the cavities of couries, close their openings with borax reduced to a paste with goat-milk, roast the shells in closed crucibles and take out the medicine when cold. Dose about four grains, with two grains of long and two of black pepper, honey and clarified butter. It is said to be useful in phthisis, and chronic bronchitis with fever.
In diseases of the nervous system, several combinations of
mercury with gold, iron, talc, etc. are used, such as, the Chaturmukha rasa, Chintάmani chaturmukha, Yogendra rasa etc. They are all similar in composition, with but slight variation in the proportions of the active ingredients and their adjuncts.
Chintάmani chaturmukha1 is thus prepared. Take of the red preparation of mercury called Rasa sindura two tolas, prepared talc two tolas, prepared iron one tola, prepared gold half a tola, rub them together with the juice of
Aloe Indica and make into two-grain pills. This medicine is said to be useful in nervous diseases, insanity, cephalalgia, deafness, noise in the ears, paralysis of the tongue, diseases of the female and urinary organs, phthisis, fever etc. It improves nutrition, increases the appetite and strength, and brightens the complexion.
As an alterative tonic the red preparation of mercury, or Rasa-sindura already described, is much used in a variety of diseases.
Two other forms of this medicine in common use are called Shad-guna balijάrita rasa sindura and Svarna sindura respectively.
Shadguna balijάrita rasa sindura is thus prepared. Take of mercury and sulphur equal parts, and prepare Rasa sindura as already described by sublimation in a glass bottle. On the second day, mix this Rasa sindura with an equal quantity of sulphur and again sublime the compound. Repeat the process in this way, six times. This preparation is considered superior to the ordinary Rasa sindura.
Svarna sindura1 is thus prepared. Take of fine leaf gold one tola, purified mercury eight tolas, mix together by rubbing in a mortar, add twelve tolas of sulphur and again rub together, till the mass is of a dark colour. Sublime in a glass bottle on the sand-bath. The three forms of Rasa sindura above mentioned are said to cure all sorts of diseases, but are particularly used in chronic fever, catarrh and cough of children, mental and bodily debility, anaemia etc.
Mercury is used in syphilis both externally and internally. Syphilis and its treatment by mercury are described only in recent compilations, such as the Bhavaprakasa. The following are a few illustrations of its use in this disease.
Saptasάli vati.2 Take of mercury and catechu each half a tola, pellitory root one tola, honey one and a half tola. Rub together till the globules of mercury disappear, and divide into seven pills or boluses. One pill is administered every morning with water in primary syphilis. Acids and salt should not be taken after the use of this medicine.
Rasa karpura1 or corrosive sublimate as sold in the bazars is recommended to be given in a single dose of eight grains. The medicine is enclosed in a ball of wheat-flour and covered with powdered cloves. It is swallowed with water so as not to touch the teeth. Salts and acids are forbidden to be taken after the use of this medicine. As the Rasa karpura of the bazars is not a pure perchloride of mercury, but is a mixture of calomel and corrosive sublimate in indefinite proportions, the patient sometimes escapes after this dose. When, however, it contains more of corrosive sublimate than of calomel, intense salivation, gastritis and even death may result. When such doses of poisonous remedies are recommended in standard works it is no wonder that we should occasionally come across cases of dreadful salivation, induced by native treatment. The circumstance of wheat-flour being used as a covering to the poison may act as an antidote to some extent. In secondary syphilis Rasa karpura is given in small doses in combination with cloves, saffron, sandal wood, and
musk.
For external application, about a drachm of mercury is recommended to be rubbed between the palms with the juice of the leaves of
Sida cordifolia (bάtyάlaka) till the globules of mercury are no longer visible. The palms are then to be warmed over the fire till perspiration breaks out from them.2
For fumigation in primary syphilis, about half a drachm of the black sulphide, mixed with one fourth part of wheat-flour, is employed daily for seven days in succession.1 In secondary syphilitic eruptions the following composition is used for fumigation. Take of cinnabar one tola, realgar half a tola, powder and mix. About fifteen grains of this is used at a time. Powders for fumigation are heated over a fire of jujube tree wood, and the vapour is applied to the skin under cover in a closed room.
Mercury enters into the composition of several applications for skin diseases, as in the following. Take of cinnabar, sulphur, red oxide of
lead, rock salt, seeds of Cassia tora (chakramarda), baberung, Cleome felina (svarnaksliiri), and the root of Aplotaxis auriculata (kushta) in equal parts. Powder them, and reduce to a thin paste with the juice of datura, nim or betle leaves. This application is said to cure ringworm, eczema, prurigo, psoriasis etc.2
**************************************

Blog Archive

INTRODUCTION

My photo
INDIA-RUSSIA, India
Researcher of Yog-Tantra with the help of Mercury. Working since 1988 in this field.Have own library n a good collection of mysterious things. you can send me e-mail at alon291@yahoo.com Занимаюсь изучением Тантра,йоги с помощью Меркурий. В этой области работаю с 1988 года. За это время собрал внушительную библиотеку и коллекцию магических вещей. Всегда рад общению: alon291@yahoo.com