Tuesday, July 23, 2013

रहस्यमयी शिव मंदिर



भारत में कई ऐसे मंदिर है, जो कई चमत्कार और रहस्यों से भरे हुए हैं। 
साथ ही इन मंदिरों से जुड़ी कई प्राचीन कहानियां भी इन मंदिरों से लोगों 
की आस्था को और भी मजबूत करते हैं। यहां श्रद्धालुओं की भीड़ दिनों-
दिन बढ़ती ही जा रही है।

झारखंड के रामगढ़ जिले में भी एक ऐसा ही रहस्मयी शिवमंदिर है, 
जिसके बारें में जानने के बाद हर श्रद्धालु इस मंदिर में एक बार जरूर जाना 
चाहता है और भगवान के दर्शन की इच्छा रखता है। यूं तो भगवान शिव 
को लेकर कई पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं लेकिन यहां आज भी भगवान 
के चमत्कार लोगों को साफ नजर आते हैं। 

पुराने समय में जब इस मंदिर की जानकारी अग्रेजों को हुई और उन्होंने 
यहां होने वाले चमत्कार को अपनी आंखों से देखा तो उनकी आंखे फटी की 
फटी रह गई थी।

ऐसे में भगवान के प्रति लोगों की आस्था और मजबूत हो जाती है।  यही 
वजह है कि इस मंदिर की कहानी दूर-दूर तक प्रचलित हो गई है और दिनों-
दिन इस मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ती जा रही है।



रामगढ़ में स्थित इस शिवमंदिर को प्राचीन मंदिर टूटी झरना के नाम से 
जानते हैं। मंदिर में मौजूद शिवलिंग पर अपने-आप 24 घंटे जलाभिषेक 
होता रहता है। खास बात तो यह है कि यह जलाभिषेक कोई और नहीं 
बल्कि खुद मां गंगा अपनी हथेलियों से करती हैं। 


दरअसल शिवलिंग के ऊपर मां गंगा की एक प्रतिमा स्थापित है जिनके नाभि से अपने-आप पानी की धारा उनकी हथेलियों से होता हुआ शिवलिंग पर गिरता है। यह आज भी रहस्य बना हुआ है कि आखिर इस पानी का स्त्रोत कहां है?


यहां शिवलिंग पर जलाभिषेक कोई और नहीं बल्कि मां गंगा की प्रतिमा खुद करती रहतीं हैं। माना जाता है कि इस जलाभिषेक की जानकारी पुराणों में भी मिलता है। प्राचीन मंदिर टूटी झरना को लेकर एक पौराणिक कथा प्रचलित है। माना जाता है कि बहुत साल पहले यहां रेलवे लाइन बिछाने के दौरान इस मंदिर के बारे में लोगों को जानकारी मिली थी। 

पानी के लिए यहां खुदाई के दौरान जमीन के अंदर कुछ चीज दिखाई पड़ी। खुदाई के वक्त यहां अंग्रेज भी मौजूद थे। जब पूरी खुदाई की गई तो जमीन के अंदर शिवलिंग नजर आया, साथ ही मां गंगा की एक प्रतिमा भी मिली। अपने आप शिवलिंग पर गिर रहे जल को देख एक बार अंग्रेज भी आश्चर्यचकित हो गए थे। 
मां गंगा की प्रतिमा की खास बात यह है कि उनकी नाभी से अपने आप जल निकलता रहता है, जो उनके दोनों हाथों से होता हुआ शिवलिंग पर गिरता रहता है। यह पानी कहां से आ रहा है यह आज भी रहस्य बना हुआ है। इस मंदिर में शिवलिंग के दर्शन के लिए दूर-दूर से लोग पहुंचते हैं और भगवान शिव की पूजा-अर्चना करते हैं। 

यहां लगाये गए दो हैंडपंप भी रहस्यों से घिरे हुए हैं। यहां लोगों को पानी के लिए हैंडपंप चलाने की जरूरत नहीं पड़ती है बल्कि इसमें से अपने-आप हमेशा पानी नीचे गिरता रहता है। वहीं मंदिर के पास से ही एक नदी गुजरती है जो सूखी हुई है लेकिन भीषण गर्मी में भी इन हैंडपंप से पानी लगातार निकलता रहता है।




Sunday, July 21, 2013

In the center of the Earth exploded a nuclear reactor


By the hypothesis of the origin of the Moon added another one: Dutch scientists believe that the Earth's natural satellite has got 4.5 billion years ago, after the explosion of a giant nuclear reactor of natural origin, who worked in the bowels of the planet.
The fact that the moon is composed of the same rock that makes up the Earth, it became known after the soil samples from the satellite of our planet brought American astronauts. Solar radiation leads to the disintegration of radioactive isotopes, and it does so depends on the distance at which the atoms are arranged from the star. If the Moon formed elsewhere in the solar system, its composition would be different radioisotope from similar parameters of the Earth.

Therefore, the common assumption is the "terrestrial" origin of the Moon. However, exactly how this happened, the researchers argue. Main theories to date has been three. The first is that early Earth was spinning so fast that the growth of its mass due to the capture of comets and asteroids just ripped it, and ejected material formed the moon. According to the second theory, the satellite separated from the world by the impact of a giant body the size of Mars. A third theory of the Moon and the Earth formed at the same time, with our satellite was formed from a variety of meteorites and asteroids orbiting the ancient Earth.

After reviewing the results of computer simulation, a group of researchers from the University of Amsterdam has developed a fourth theory. Dutch scientists believe that the moon formed as a result of the explosion of a giant nuclear reactor, which operates within the planet. The results of the study, researchers published in the journal New Scientist .

"A nuclear explosion - the only event that could in a short time to throw a lot of substance. And it is only under these conditions, the strain can not only separate from the earth, but also to get momentum enough to not fall off the earth," - said Wim van Westen, who heads a group of investigators. The scientist added that, according to the calculations of, the power of the explosion could be around 40 billion bombs dropped on Hiroshima.

The hypothesis that the earth inside the reactor working nature, is not new. It is well explained by the fact that our planet radiates more energy than it receives from the Sun. This theory is confirmed by the discovery of several extinct natural reactors, the size of which, however, does not exceed a few meters.

Saturday, July 13, 2013

Delhi RedFort True Story: True History of Delhi Redfort



This tablet raised inside Delhi's Red Fort by modern archaeologists proclaims that Shahjahan (who ruled from 1628 to 1658 A.D.) built this fort from 1639 to 1648 A.D. As against this see the [next] photo of the painting of Shahjahan's time preserved in the Bodleian Library, Oxford. It depicts Shajahan receiving the Persian ambassador inside the fort in 1628, the very year of Shahjahan's accession. Obviously the fort existed much before Shahjahan.




The 5th generation Mogul emperor Shahjahan is credited with having built the Red Fort in Delhi. Shahjahan ascended the throne in 1628 A.D. This contemporary painting shows him receiving the Persian ambassador in 1628 itself, in the Diwan-i-Aam (Common Room) of the Red Fort itself. This painting preserved in the Bodleian Library, Oxford, was reproduced in the Illustrated Weekly of India (page 32) of March 14, 1971. Since Shahjahan was in the fort in the year of his accession, this documentary evidence disproves the notion that he built the fort. Compare with this the photo of the tablet in English raised inside the fort by the Govt. of India's archaeology department asserting that Shahjahan built the fort during 1639-48. This is emphatic proof of Indian history having been thoroughly falsified during Muslim rule in India.



The Red Fort in Delhi has in its Khas Mahal, alias the King's apartment, the royal emblem of its builder King Anangoal. It consists of a pair of swords laid hilt to hilt curving upwards, the sacred Hindu pot (kalash) above the hilts, a lotus bud and a pair of scales of justice balanced over it. Dotted around are representations of the sun from whom Indian ruling dynasties claimed descent. At the sword points are two small conches considered sacred in Hindu tradition. Bigger conches may be seen at the left and right corners at the base.





This royal Hindu insignia of the Hindu king who built Delhi's Red Fort, is still there in the Khas Mahal pavilion. But even this visual symbol has been blatantly misinterpreted. The two swords laid hilt to hilt, curving upward are being inadvertently styled by ignorant guides, archaeologists and historians as an Islamic crescent. The sacred Hindu Kalash (water pot) on the hilts is never noticed. The lotus bud on the kalash represents royal wealth. The pair of scales is symbolic of impartial justice.







This perforated marble screen inside the Khas Mahal (i.e. the King's own chamber) in Delhi's Red Fort, is a Hindu specialty. Such jalees are mentioned even in Ramayanic descriptions of palaces. Therefore some buildings claimed to be mosques in Ahmedabad which boast of such exquisite jalees (lattices) are Hindu edifices. The Hindu royal emblem mounted on the upper part of the jalee, disproves that the Mogul Shahjahan built the fort.



The resplendent Hindu midday sun (from whom Hindu rulers claim descent) in the arch above flanked by the sacred Hindu letter OM. Below it is the royal Hindu insignia. This proves the hollowness of the claim that Shahjahan commissioned the Red Fort.



These life size elephants flanking the Delhi Gate of Delhi's Red Fort are an unmistakable sign of the fort's Hindu origin. This is one of the proofs that the Red Fort was commissioned by Raja Anangoal (1060 A.D.) and not the Mogul emperor Shahjahan (1639-48) as is erroneously believed. [The fort predates Shahjahan by 600 years, similar to the Taj Mahal.]







A close-up of the interior top of the entrance arch of the so-called Moti Masjid (which was Hindu Moti Mandir) inside Delhi's Red Fort. The arch at the bottom may be seen to be made of banana bunches. On either side above the arch are trays holding five fruits each as holy Hindu offering. Fruit is taboo inside Muslim mosques.



























Thursday, July 4, 2013

प्लास्टिक सर्जरी

प्लास्टिक सर्जरी (Plastic Surgery) जो आज की सर्जरीry की दुनिया मे आधुनिकतम विद्या है इसका अविष्कार भारत मे हुअ है| सर्जरी का अविष्कार तो हुआ हि है प्लास्टिक सर्जरी का अविष्कार भी यहाँ हि हुआ है| प्लास्टिक सर्जरी मे कहीं की प्रचा को काट के कहीं लगा देना और उसको इस तरह से लगा देना की पता हि न चले यह विद्या सबसे पहले दुनिया को भारत ने दी है|

1780 मे दक्षिण भारत के कर्णाटक राज्य के एक बड़े भू भाग का राजा था हयदर अली| 1780-84 के बीच मे अंग्रेजों ने हयदर अली के ऊपर कई बार हमले किये और एक हमले का जिक्र एक अंग्रेज की डायरी मे से मिला है| एक अंग्रेज का नाम था कोर्नेल कूट उसने हयदर अली पर हमला किया पर युद्ध मे अंग्रेज परास्त हो गए और हयदर अली ने कोर्नेल कूट की नाक काट दी|

कोर्नेल कूट अपनी डायरी मे लिखता है के “मैं पराजित हो गया, सैनिको ने मुझे बन्दी बना लिया, फिर मुझे हयदर अली के पास ले गए और उन्होंने मेरा नाक काट दिया|” फिर कोर्नेल कूट लिखता है के “मुझे घोडा दे दिया भागने के लिए नाक काट के हात मे दे दिया और कहा के भाग जाओ तो मैं घोड़े पे बैठ के भागा| भागते भागते मैं बेलगाँव मे आ गया, बेलगाँव मे एक वैद्य ने मुझे देखा और पूछा मेरी नाक कहाँ कट गयी? तो मैं झूट बोला के किसीने पत्थर मार दिया, तो वैद्य ने बोला के यह पत्थर मारी हुई नाक नही है यह तलवार से काटी हुई नाक है, मैं वैद्य हूँ मैं जानता हूँ| तो मैंने वैद्य से सच बोला के मेरी नाक काटी गयी है| वैद्य ने पूछा किसने काटी? मैंने बोला तुम्हारी राजा ने काटी| वैद्य ने पूछा क्यों काटी तो मैंने बोला के उनपर हमला किया इसलिए काटी|फिर वैद्य बोला के तुम यह काटी हुई नाक लेके क्या करोगे? इंग्लैंड जाओगे? तो मैंने बोला इच्छा तो नही है फिर भी जाना हि पड़ेगा|”

यह सब सुनके वो दयालु वैद्य कहता है के मैं तुम्हारी नाक जोड़ सकता हूँ, कोर्नेल कूट को पहले विस्वास नही हुआ, फिर बोला ठेक है जोड़ दो तो वैद्य बोला तुम मेरे घर चलो| फिर वैद्य ने कोर्नेल को ले गया और उसका ऑपरेशन किया और इस ऑपरेशन का तिस पन्ने मे वर्णन है| ऑपरेशन सफलता पूर्वक संपन्न हो गया नाक उसकी जुड़ गयी, वैद्य जी ने उसको एक लेप दे दिया बनाके और कहा की यह लेप ले जाओ और रोज सुबह शाम लगाते रहना| वो लेप लेके चला गया और 15-17 दिन के बाद बिलकुल नाक उसकी जुड़ गयी और वो जहाज मे बैठ कर लन्दन चला गया|

फिर तिन महीने बाद ब्रिटिश पार्लियामेन्ट मे खड़ा हो कोर्नेल कूट भाषण दे रहा है और सबसे पहला सवाल पूछता है सबसे के आपको लगता है के मेरी नाक कटी हुई है? तो सब अंग्रेज हैरान होक कहते है अरे नही नही तुम्हारी नाक तो कटी हुई बिलकुल नही दिखती| फिर वो कहानी सुना रहा है ब्रिटिश पार्लियामेन्ट मे के मैंने हयदर अली पे हमला किया था मैं उसमे हार गया उसने मेरी नाक काटी फिर भारत के एक वैद्य ने मेरी नाक जोड़ी और भारत की वैद्यों के पास इतनी बड़ी हुनर है इतना बड़ा ज्ञान है की वो काटी हुई नाक को जोड़ सकते है|

फिर उस वैद्य जी की खोंज खबर ब्रिटिश पार्लियामेन्ट मे ली गयी, फिर अंग्रेजो का एक दल आया और बेलगाँव की उस वैद्य को मिला, तो उस वैद्य ने अंग्रेजो को बताया के यह काम तो भारत के लगभग हर गाँव मे होता है; मैं एकला नहीं हूँ ऐसा करने वाले हजारो लाखों लोग है| तो अंग्रेजों को हैरानी हुई के कोन सिखाता है आपको ? तो वैद्य जी कहने लगे के हमारे इसके गुरुकुल चलते है और गुरुकुलों मे सिखाया जाता है|

फिर अंग्रेजो ने उस गुरुकुलों मे गए उहाँ उन्होंने एडमिशन लिया, विद्यार्थी के रूप मे भारती हुए और सिखा, फिर सिखने के बाद इंग्लॅण्ड मे जाके उन्होंने प्लास्टिक सर्जरी शुरू की| और जिन जिन अंग्रेजों ने भारत से प्लास्टिक सर्जरी सीखी है उनकी डायरियां हैं| एक अंग्रेज अपने डायरी मे लिखता है के ‘जब मैंने पहली बार प्लास्टिक सर्जरी सीखी, जिस गुरु से सीखी वो भारत का विशेष आदमी था और वो नाइ था जाती का| मने जाती का नाइ, जाती का चर्मकार या कोई और हमारे यहाँ ज्ञान और हुनर के बड़े पंडित थे| नाइ है, चर्मकार है इस आधार पर किसी गुरुकुल मे उनका प्रवेश वर्जित नही था, जाती के आधार पर हमारे गुरुकुलों मे प्रवेश नही हुआ है, और जाती के आधार पर हमारे यहाँ शिक्षा की भी व्यवस्था नही था| वर्ण व्यवस्था के आधार पर हमारे यहाँ सबकुछ चलता रहा| तो नाइ भी सर्जन है चर्मकार भी सर्जन है| और वो अंग्रेज लिखता है के चर्मकार जादा अच्चा सर्जन इसलिए हो सकता है की उसको चमड़ा सिलना सबसे अच्छे तरीके से आता है|

एक अंग्रेज लिख रहा है के ‘मैंने जिस गुरु से सर्जरी सीखी वो जात का नाइ था और सिखाने के बाद उन्होंने मुझसे एक ऑपरेशन करवाया और उस ऑपरेशन की वर्णन है| 1792 की बात है एक मराठा सैनिक की दोनों हात युद्ध मे कट गए है और वो उस वैद्य गुरु के पास कटे हुए हात लेके आया है जोड़ने के लिए| तो गुरु ने वो ऑपरेशन उस अंग्रेज से करवाया जो सिख रहा था, और वो ऑपरेशन उस अंग्रेज ने गुरु के साथ मिलके बहुत सफलता के साथ पूरा किया| और वो अंग्रेज जिसका नाम डॉ थॉमस क्रूसो था अपनी डायरी मे कह रहा है के “मैंने मेरे जीवन मे इतना बड़ा ज्ञान किसी गुरु से सिखा और इस गुरु ने मुझसे एक पैसा नही लिया यह मैं बिलकुल अचम्भा मानता हूँ आश्चर्य मानता हूँ|” और थॉमस क्रूसो यह सिख के गया है और फिर उसने प्लास्टिक सेर्जेरी का स्कूल खोला, और उस स्कूल मे फिर अंग्रेज सीखे है, और दुनिया मे फैलाया है| दुर्भाग्य इस बात का है के सारी दुनिया मे प्लास्टिक सेर्जेरी का उस स्कूल का तो वर्णन है लेकिन इन वैद्यो का वर्णन अभी तक नही आया विश्व ग्रन्थ मे जिन्होंने अंग्रेजो को प्लास्टिक सेर्जेरी सिखाई थी|

अगर आप पूरी पोस्ट नही पड़ सकते तो यहाँ Click करें:
http://www.youtube.com/watch?v=ZO-bpE9NYUA

INTRODUCTION

My photo
INDIA-RUSSIA, India
Researcher of Yog-Tantra with the help of Mercury. Working since 1988 in this field.Have own library n a good collection of mysterious things. you can send me e-mail at alon291@yahoo.com Занимаюсь изучением Тантра,йоги с помощью Меркурий. В этой области работаю с 1988 года. За это время собрал внушительную библиотеку и коллекцию магических вещей. Всегда рад общению: alon291@yahoo.com